विश्वभारती विवि की घटना पर राज्यपाल ने ममता को लिखा पत्र, कहा- घटना में शामिल लोगों को दंडित किया जाना चाहिए


बीरभूम जिले के शांतिनिकेतन में स्थित विश्वभारती केंद्रीय विश्वविद्यालय में सोमवार को व्यापक पैमाने पर हुई हिंसा और तोड़फोड़ की घटना को लेकर बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने मंगलवार को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को पत्र लिखकर दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की।

राज्यपाल ने सीएम को लिखे पत्र को ट्वीट करते हुए कहा- 'विश्वभारती विश्वविद्यालय में हुई बर्बर घटना को लेकर चारों तरफ आक्रोश है।विश्वविद्यालय परिसर को अपवित्र करने में लगे लोगों की जवाबदेही तय करने के लिए मुख्यमंत्री से आग्रह किया है। कविगुरु के सपनों के विश्वभारती की प्राचीनतम पहचान और उसकी भव्यता की रक्षा का समय है।'

दूसरे ट्वीट में राज्यपाल ने लिखा, 'हर समाज सही और गलत के बीच एक लाल रेखा खींचता है। जो गलत है उसे गलत कहना होगा। इस घटना के पीछे जो लोग भी शामिल है उसे दंडित किया जाना चाहिए और भविष्य में इस तरह की घटना की पुनरावृत्ति ना हो यह देखा जाना चाहिए। 17 अगस्त को विश्वभारती में जो नजारा देखा गया वह बेहद भयावह है।' वहीं, एक अन्य ट्वीट में राज्यपाल ने कहा कि निसंदेह हम सभी को गुरुदेव के प्रिय विश्वभारती विवि और उसके परिसर की ऐतिहासिक पहचान को संरक्षित करने की दिशा में काम करने की आवश्यकता है। बताते चलें कि इससे पहले विश्वविद्यालय में तोड़फोड़ की घटना को लेकर राज्यपाल ने सोमवार को ही मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से फोन पर भी बात की थी और गंभीर चिंता जताई थी।

गौरतलब है कि उग्र भीड़ ने विश्वभारती विवि प्रशासन द्वारा पौष मेला ग्राउंड में कराए जा रहे दीवार निर्माण का विरोध करते हुए सोमवार को निर्माणाधीन चारदीवारी को पूरी तरह तोड़ दिया एवं एवं निर्माण स्थल पर रखे ईंट व सीमेंट को भी फेंक दिया। इतना ही नहीं हजारों की भीड़ में विश्वविद्यालय के एक ऐतिहासिक द्वार को भी ध्वस्त कर दिया तथा कई फर्नीचर तोड़ डाले। इस घटना को लेकर खुद प्रधानमंत्री एवं विश्वविद्यालय के कुलाधिपति नरेंद्र मोदी ने विवि के कुलपति विद्युत चक्रवर्ती से फोन पर बात की तथा घटना के बारे में विस्तृत जानकारी ली। उधर, घटना के बाद विश्वविद्यालय को अनिश्चितकाल के लिए बंद कर दिया गया है। 

ADVERTISEMENT