यूपी सरकार में मंत्री चेतन चौहान का कोरोना से निधन, आज होगा अंतिम संस्कार


उत्तर प्रदेश सरकार में कैबिनेट मंत्री चेतन चौहान का निधन हो गया है और आज उनका अंतिम संस्कार होगा. चेतन चौहान पिछले महीने कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे. इसके बाद उन्हें लखनऊ में भर्ती कराया गया था, जहां अचानक उनकी शनिवार को तबियत बिगड़ने के बाद मेदान्ता शिफ्ट कर दिया गया था.

रविवार शाम मेदान्ता हॉस्पिटल में चेतन चौहान का देहांत हो गया. यह दुखद खबर आने के बाद मुरादाबाद के ग्राम मुंडापांडे स्थित उनके पैतृक आवास पर मातम छा गया. परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल है. इलाके के लोग भी अपने प्रिय नेता की मौत की खबर सुनकर वहां पहुंचने लगे हैं. साथ ही पुलिस व प्रशासनिक अफसर भी पहुंचे.

दिवंगत मंत्री चेतन चौहान के करीबी रिश्तेदार हेमंत सिंह ने कहा कि हम तो परिवार के सदस्य हैं, लेकिन इलाके के लोगों से भी वो हमेशा परिवार की तरह मिलते थे. कभी मंत्री के रूप में नहीं मिलते थे और सभी बच्चों खासकर युवाओं को समझाते थे कि पढ़ो-लिखो और ईमानदारी के रास्ते पर चलो.

हेमंत सिंह ने कहा कि चेतन चौहान पूरे मंडल की नाक और शान थे. हमारे ही नहीं बल्कि पूरे मंडल के सिर से साया चला गया. मंडल के जितने भी गांव-ब्लाक थे, उनके स्वास्थ्य लाभ के लिए कल से ही प्रार्थना कर रहे थे.

आपको बताते चले कि चेतन चौहान पूर्व क्रिकेटर भी थे. उन्होंने अंतिम टेस्ट मैच 13 जुलाई 1981 को न्यूजीलैंड के खिलाफ खेला था. 1981 में ही चौहान को अर्जुन आवार्ड से नवाजा गया. राजनीति की बात करें तो चेतन चौहान ने 1991 व 1998 में अमरोहा लोकसभा से सांसद रहे. 1999 व 2004 में भी बीजेपी ने टिकट दिया, लेकिन किस्मत ने साथ नहीं दिया और हार गए.

इसके बाद चेतन चौहान 2017 विधानसभा चुनाव में नौगावां सीट से चुनाव लड़े और समाजवादी पार्टी के पूर्व दर्जा राज्य मंत्री जावेद आब्दी को हराकर विधानसभा सीट पर कब्जा किया. चेतन चौहान के पास सैनिक कल्याण होमगार्ड, पीआरडी और नागरिक सुरक्षा मंत्रालय था.

ADVERTISEMENT