WHO की चेतावनी- कोरोना वायरस को लेकर न पालें गलतफहमी, यह मौसमी बीमारी नहीं


कोरोना वायरस पर विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने एक बार फिर लोगों को आगाह किया है। डब्ल्यूएचओ का कहना कि लोगों को किसी तरह की गलतफहमी में नहीं रहना चाहिए कि कोरोना वायरस एक मौसमी बीमारी है जो मौसम बदलने के साथ कम हो जाएगी। विश्व स्वास्थ्य संगठन की प्रवक्ता मार्गरेट हैरिस ने एक वर्चुअल ब्रीफिंग में कहा कि कोरोना वायरस महामारी एक बड़ी लहर है।

हैरिस ने उत्तरी गोलार्ध में गर्मी के मौसम में इस वायरस को लेकर किसी भी तरह की लापरवाही ना करने की भी चेतावनी दी है। हैरिस ने कहा कि कोरोना वायरस किसी आम इन्फ्लूएंजा की तरह नहीं है, जो मौसम बदलने के साथ कम हो जाए। 

हांगकांग में दोबारा कोरोना वायरस के बढ़ रहे मामले

डब्ल्यूएचओ के अधिकारियों ने हांगकांग में दोबारा कोरोना वायरस के बढ़ रहे मामलों को लेकर भी चिंता जताई है। उन्होंने कहा कि ये वायरस इंसानों के नियंत्रण के बाहर है, हालांकि हम एक साथ मिलकर इसे फैलने से रोक सकते हैं। हैरिस ने कहा कि हम अभी कोरोना वायरस की पहली लहर से जूझ रहे हैं। ये एक बड़ी लहर बनने वाली है जो ऊपर-नीचे जा रही है लेकिन सबसे अच्छी बात ये है कि हम इस कर्व को फ्लैट कर सकते हैं।

ज्यादा सतर्क और सुरक्षा के नियमों का पालन करने की जरूरत

गर्मी के मौसम में अमेरिका में कोरोना के बढ़ते मामलों की तरफ इशारा करते हुए हैरिस ने कहा कि हमें ज्यादा सतर्क और सुरक्षा के नियमों का पालन करने की जरूरत है। उन्होंने लोगों से एक साथ इकट्ठा ना होने की भी चेतावनी दी। हैरिस ने कहा कि लोग अभी भी इसे मौसमी बीमारी की तरह देख रहे हैं। हम सभी को ये समझने की जरूरत है कि ये एक नया वायरस है, जो अलग तरह से व्यवहार कर रहा है और ये वायरस हर मौसम में रहने वाला है।

यदि आपको सांस की बीमारी है तो रहें सावधान

हैरिस ने लोगों से फ्लू की वैक्सीन लगवाने का आग्रह करते हुए कहा कि अगर आपको पहले से ही सांस की बीमारी है तो ये आपके सेहत के लिए और खतरनाक हो सकता है।

ADVERTISEMENT