विवादित बयान पर अपने ही घर में घिरे पीएम ओली, नेपाली नेताओं ने भारत से संबंध बिगाड़ने की साजिश बताया


नेपाली कवि भानुभक्त आचार्य की जयंती पर आयोजित कार्यक्रम में प्रभु राम के जन्मासथान को लेकर विवादित बयान देकर नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली अपने ही देश में घिर गए हैं। विभिन्न राजनैतिक दलों, मधेशी नेताओं के साथ ही स्थानीय जनता ने अयोध्या कोे बारे में पीएम ओली के बयान पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। लोगों ने इसे दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ाने वाला कदम बताया है।

महराजगंज की सीमा से लगे नेपाल के रूपनदेही व नवलपरासी जिले के लोगों ने नेपाली प्रधानमंत्री के बयान पर दुख व्यक्त करते हुए दोनों देशों के संबंधों में सुधार पर जोर दिया। राष्ट्रीय प्रजातांत्रिक पार्टी के वर्डप्रेस नेता नेता कमल थापा ने कहा कि प्रधानमंत्री को अप्रमाणिक बयानों से बचना। इस कथन से दोनों देशों के संबंधों पर असर पड़ेगा। परेडना आयोग के पूर्व उपाध्यक्ष स्वर्णिम टाटाले ने भी प्रधानमंत्री के बयान पर असहमति जताई है। 

ओली सरकार के दिन पूरे : विधायक 

नेपाल की जनता समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता व भैरहवा क्षेत्र नंबर तीन से विधायक संतोष पांडेय ने नेपाली प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली के बयान को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है। उन्होंने कहा कि ओली सरकार के दिन अब पूरे हो चुके हैं। पूर्व कृषि राज्यमंत्री व नेपाल कम्युनिस्‍ट पार्टी के नेता गुलजारी यादव व राष्‍ट्रीय जनता समाजवादी पार्टी के नेता महेंद्र यादव ने कहा कि एक साजिश के तहत भारत-नेपाल के संबंधों को बिगाड़ने की कोशिश हो रही है। 

तनाव बढ़ने से सशंकित हैं सीमावर्ती क्षेत्र के लोग

भारत-नेपाल सीमा बीते 23 मार्च से सील है। सोनौली बार्डर के रास्ते सिर्फ मालवाहक वाहनों के ही आने-जाने की अनुमति है। नेपाली प्रधानमंत्री के विवादित बयान के बाद दोनों देशों के बीच संबंध और बिगड़ने की आशंका लाएग जता रहे हैं। सीमावर्ती भारतीय क्षेत्र भगवानपुर के समाजसेवी जयराम सिंह, बैजनाथ पांडेय व अजय जायसवाल ने कहा कि मार्च महीने से ही अपने रिश्तेदारों से मिलने नेपाल नहीं जा पा रहे हैं। इसी तरह तनाव बढ़ता जा रहा है तो नेपाल में भाषण अब मुश्किल हो जाएगा।  

नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली को अयोध्या के संबंध में दिए गए अपने बयान को वापस लेना चाहिए। उनकी बात धर्म के विरुद्ध है। भगवान राम से करोड़ों लोगों की आस्था जुड़ी है। मेरी पार्टी उनके बयान की निंदा करती है। 

ADVERTISEMENT