Shravani Mela 2020 : सावन कल से, बाबा बैद्यनाथ का वर्चुअल दर्शन कर सकेंगे भक्त, प्रवेश की अनुमति नहीं


देवघर : श्रावणी मेले के इतिहास में (history of Shravani Mela) पहली बार ऐसा होगा कि सावन के महीने में श्रद्धालु न तो बाबा बैद्यनाथ को उत्तरवाहिनी का जल चढ़ा पायेंगे और न ही उनका दर्शन कर पायेंगे. कोविड-19 (covid-19) के बढ़ते संक्रमण के कारण झारखंड सरकार और हाईकोर्ट ने बाबा बैद्यनाथ मंदिर (Baba Baidyanath Temple) और बासुकिनाथ मंदिर (Basukinath Temple) को बंद रखने का आदेश दिया है.

कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए इस बार श्रावणी मेले का आयोजन बंद रखा गया है. सावन माह में श्रद्धालुओं व शिवभक्तों को बाबा का दर्शन कराने के लिए सरकार ने ऑनलाइन वर्चुअल दर्शन की व्यवस्था की है. सावन माह सोमवार 6 जुलाई से शुरू हो रहा है. छह जुलाई से ही शिवभक्त जो जहां हैं, वे बाबा बैद्यनाथ का ऑनलाइन वर्चुअल दर्शन कर पायेंगे. ये जानकारी देवघर की उपायुक्त नैंसी सहाय ने दी.

देवघर की उपायुक्त नैंसी सहाय ने बताया कि सावन के महीने में मंदिर और आसपास श्रद्धालुओं का प्रवेश निषेध है. सीमाओं को सील कर दिया गया है. जगह-जगह चेकपोस्ट बनाये गये हैं ताकि किसी भी वाहन का प्रवेश शहर में नहीं हो सके. बिहार-बंगाल और अन्य राज्यों से आने वाहनों को शहर में घुसने नहीं दिया जायेगा. इंट्री के लिए ई-पास की आवश्यकता होगी.

देवघर की उपायुक्त ने कहा कि बड़े वाहनों को बाहर-बाहर ही गंतव्य के लिए भेजा जायेगा. बिहार बॉर्डर दुम्मा, दर्दमारा, अंधरीगादर सहित मंदिर के आसपास चेकपोस्ट बनाये गये हैं. सभी जगहों पर पर्याप्त संख्या में पुलिस बल के साथ दंडाधिकारियों व पुलिस अफसरों को तैनात किया गया है.

देवघर डीसी नैंसी सहाय और दुमका डीसी राजेश्वरी बी ने जानकारी दी है कि बाबा बैद्यनाथ मंदिर और बासुकिनाथ मंदिर में सुबह की सरकारी पूजा और शाम का श्रृंगार दर्शन का ही वर्चुअल दर्शन भक्त कर पायेंगे. इसके लिए झारखंड सरकार ने विभिन्न टीवी चैनलों, सोशल मीडिया, वेबपेज आदि पर प्रसारण की व्यवस्था की है.

ऑनलाइन वर्चुअल दर्शन के लिए शिवभक्त देश में हों या विदेश में कहीं भी हों, दिये गये लिंक पर क्लिक करके बाबा बैद्यनाथ का दर्शन कर सकेंगे. इसके लिए झारखंड सरकार का टीवी चैनल, दूरदर्शन समेत अन्य टीवी चैनलों को प्रसारण की स्वीकृति दी गयी है. जिला प्रशासन की ओर से सोशल साइट फेसबुक के देवघर पेज पर, एनआइसी के देवघर वेबसाइट पर लाइव प्रसारण होगा.

डीसी नैंसी सहाय ने कहा कि ऐसी व्यवस्था की जा रही है कि भक्त बाबा का दर्शन हर रोज कर सकेंगे. पूजा का समय सावन के लिए निर्धारित होगा. इसके लिए पुरोहित समाज के साथ बैठक करके समय का निर्धारण किया जायेगा. समय का प्रचार प्रसार टीवी चैनलों व सोशल साइट्स के माध्यम से किया जायेगा ताकि लोग सही समय पर टीवी या सोशल साइट पर वर्चुअल दर्शन कर सकें.

ADVERTISEMENT