Indian Railways News : ट्रेनों में अब सबको मिलेगा कन्फर्म टिकट, वेटिंग लिस्ट का टेंशन खत्म, जानें रेलवे की क्या है तैयारी


Indian railways News : ट्रेन में अब वेटिंग टिकट का टेंशन खत्म हो जाएगा. रेलवे जल्द ही सभी को कन्फर्म टिकट देने की तैयारी में है. इसको लेकर चरणबद्ध तरीके से योजना बना ली गई है. बताया जा रहा है कि इसे पूरा होने में तकरीबन 3 साल का समय लगेगा.

सीएनबीसी टीवी की रिपोर्ट के अनुसार रेलवे सभी यात्रियों को कन्फर्म टिकट देने के प्लान पर काम कर रही है. जल्द ही इस योजना को मूर्त रूप दिया जाएगा. रेलवे की कोशिश है कि किसी भी यात्री की टिकट वेटिंग में न जाए. रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वीके यादव ने कहा कि 2023 तक हम रेलवे पैसेंजर ट्रेन और फ्रेट ट्रेन को ऑन डिमांड चलाने में सक्षम हो जाएंगे.

रूटवाइज होगी प्रक्रिया- रेलवे कन्फर्म टिकट देने के प्लान को रूटवाइज लागू करेगी. बताया जा रहा है कि सबसे पहले रेलवे उन रूटों पर कन्फर्म टिकट देगी जो, अति व्यस्ततम है. जैसे दिल्ली से मुंबई और दिल्ली से कोलकाता. रेलवे से सबसे पहले दिल्ली मुंबई रूप पर कन्फर्म टिकट देने का काम शुरू करेंगे. भारतीय रेल से जुड़ी हर Hindi News से अपडेट रहने के लिए बने रहें हमारे साथ.

1.61 लाख रोजगार दिए- रेलवे ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान देश-भर में 1.61 लाख रोजगार दिए गए हैं. बोर्ड के चेयरमैन वी के यादव ने एक ऑनलाइन प्रेस ब्रीफिंग में कहा, ‘पिछले चार सप्ताह में हमने 1,61,251 श्रम दिवस सृजित किये हैं और 608.87 करोड़ रुपये खर्च किये हैं. यह बहुत उत्साहवर्द्धक है और हम इसमें सहयोग देते रहेंगे.’ रेलवे ने योजना के तहत 160 बुनियादी संरचना परियोजनाओं को चिह्नित किया है.उन्होंने आगे कहा कि योजना का उद्देश्य कोरोना वायरस महामारी और लॉकडाउन के कारण अपने गांवों में लौटे श्रमिकों को रोजगार प्रदान करना है. इसमें अक्टूबर के अंत तक करीब आठ लाख श्रम दिवस सृजित करने की परिकल्पना की गयी है और करीब 1,800 करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान है.

तीन रूटों पर निजी ट्रेनों को चला रही आईआरसीटीसी - फिलहाल, आईआरसीटीसी तीन ट्रेनों (वाराणसी-इंदौर मार्ग पर काशी-महाकाल एक्सप्रेस, लखनऊ-नयी दिल्ली तेजस और अहमदाबाद-मुंबई तेजस) का परिचालन करता है. रेलवे ने कहा कि इस पहल का मकसद आधुनिक प्रौद्योगिकी वाली ट्रेनों का परिचालन है, जिसमें रखरखाव कम हो और यात्रा समय में कमी आए. इससे रोजगार सृजन को बढ़ावा मिलेगा, सुरक्षा बेहतर होगी और यात्रियों को वैश्विक स्तर का यात्रा अनुभव मिलेगा.

ADVERTISEMENT