चीनी सोशल मीडिया ने पीएम मोदी का भाषण और विदेश मंत्रालय की टिप्पणियों को हटाया


लद्दाख की गलवान घाटी में भारत के 20 सैनिकों की शहादत पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 18 जून को मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक के दौरान दिए गए भाषण को वीबो सहित दो चीनी सोशल मीडिया साइटों से हटा दिया गया है.

दरअसल, भारतीय दूतावास के अधिकारियों ने कहा कि पीएम मोदी के भाषण के साथ ही विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता की टिप्पणियों को भी डिलीट कर दिया गया है. हालांकि भारतीय अधिकारियों ने 19 जून को प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव की टिप्पणियों के स्क्रीन शॉट्स को फिर से प्रकाशित किया है.

पीटीआई की एक रिपोर्ट के मुताबिक, विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता की टिप्पणियों को वीचैट अकाउंट से भी हटा दिया गया है. वीचैट पर एक नोट में कहा गया है, हम इस सामग्री को दिखाने में असमर्थ हैं, क्योंकि यह नियमों का उल्लंघन करता है.

पीएम मोदी के जिस भाषण को हटाया गया, उसमें भारतीय सैनिकों के बलिदान को व्यर्थ नहीं जाने देने पर जोर देते हुए मोदी ने कहा था कि भारत शांति चाहता है लेकिन यदि उकसाया गया तो वह जवाब देने में सक्षम है.

जबकि अपनी टिप्पणियों में विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने चीन से कहा था कि वह अपनी गतिविधियों को वास्तविक नियंत्रण रेखा के किनारे तक ही सीमित रखे और इसे बदलने के लिए एकतरफा कार्रवाई न करे.

बता दें कि चीन में सिना वीबो को ट्विटर की तरह इस्तेमाल किया जाता है. इसके लाखों उपयोगकर्ता हैं और बीजिंग में सभी दूतावासों के अलावा कई विश्व नेताओं ने चीनी लोगों के साथ बातचीत करने के लिए इसपर अपने अकाउंट खोले हैं.

ADVERTISEMENT