बिहार की 9 MLC सीटों पर 6 जुलाई को चुनाव, नीतीश और तेजस्वी की अग्निपरीक्षा


बिहार में विधायकों के द्वारा चुनी जाने वाले विधान परिषद की 9 सीटों पर 6 जुलाई को चुनाव होंगे. चुनाव आयोग ने सोमवार को घोषणा करते हुए बताया कि कोरोना संकट के लिए चुनाव टाल दिया गया था, लेकिन अब 6 जुलाई को चुनाव होंगे. विधान परिषद के चुनाव में सत्ताधारी बीजेपी और जेडीयू की जोड़ी की असल परीक्षा देखने को मिलेगी तो वहीं महागठबंधन के लिए भी यह चुनाव काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है.

विधान परिषद की 9 सीटों के लिए 18 जून को अधिसूचना जारी होगी और कैंडिडेट 25 जून तक अपना नामांकन करा सकेंगे. वहीं, नामांकन पत्रों की जांच 26 जुलाई होगी जबकि नाम लेने की अंतिम तारीख 29 जून है. विधान परिषद के लिए वोटिंग 6 जुलाई को सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक होगी और उसी दिन शाम को नतीजे घोषित कर दिए जाएंगे.

किसके हिस्से में कितनी सीटें आएंगी

विधानसभा चुनाव से पहले होने वाले विधान परिषद के चुनाव को सेमीफाइनल माना जा रहा है. 9 एमएलसी सीटें विधानसभा सदस्यों की संख्या के आधार पर चुनी जानी हैं. ऐसे में एक विधान परिषद के लिए 27 विधायकों के समर्थन की जरूरत होगी. इस तरह से तीन आरजेडी और एक कांग्रेस के सदस्य चुना जाना तय है. इसके अलावा तीन सीटें जेडीयू और दो सीटें बीजेपी के खाते में जा सकती है.

इन नेताओं का कार्यकाल पूरा

नीतीश सरकार में मंत्री अशोक चौधरी विधायक कोटे से एमएलसी चुनकर आए थे. विधान परिषद के कार्यकारी सभापति हारुण रसीद भी विधायक कोटे से एमएलसी चुनकर आए हैं. इसके अलावा हीरा प्रसाद बिंद, पीके शाही, सतीश कुमार, सोनेलाल मेहता, कृष्ण कुमार सिंह, राधामोहन शर्मा और संजय प्रकाश का कार्यकाल मई के पहले सप्ताह में पूरा हो गया है.


शिक्षक-स्नातक क्षेत्र की सीटों पर अभी चुनाव नहीं

बिहार में शिक्षक-स्नातक क्षेत्र के तहत आने वाली 8 विधान परिषद सीटों पर अभी चुनाव की तस्वीर साफ नहीं है. कोरोना के चलते बिहार के शिक्षक-स्नातक के विधान परिषद के चुनाव को अनिश्चितकाल के लिए चुनाव आयोग ने टाल दिया है. हालांकि, हालत सामान्य हों तो 25 दिनों के भीतर विधानसभा कोटा और शिक्षक-स्नातक क्षेत्र के विधान परिषद सदस्यों के चुनाव कराए जा सकते हैं.

शिक्षक कोटे से केदारनाथ पांडेय (सारण), मदन मोहन झा (दरभंगा), संजय कुमार सिंह, (तिरहुत) और प्रो. नवल किशोर यादव (पटना) सीट पर परीक्षा से गुजरना होगा. इसी तरह स्नातक कोटे से नीरज कुमार (पटना), दिलीप कुमार चौधरी (दरभंगा), डॉ. एनके यादव (कोसी) और देवेशचंद्र ठाकुर (तिरहुत) को अपनी ताकत दिखानी होगी.

ADVERTISEMENT