103 महिलाओं समेत 698 भारतीयों को मालदीव से लाएगा INS जलश्व


कोरोना की वजह से दुनिया के कई देशों में फंसे प्रवासी लोगों को स्वदेश लाने के लिए भारत ने वंदे भारत मिशन शुरू कर दिया है. हवाई मार्ग के साथ-साथ समुद्री जहाज से भी लोगों को लाया जा रहा है. मालदीव से आईएनएस जलश्व के जरिए 698 भारलीयों को स्वदेश लाया जा रहा है.

ऑपरेशन आईएनएस जलश्व मालदीव में फंसे 698 भारतीय लोगों को लेकर स्वदेश लौट रहा है. आईएनएस जलश्व के जरिए 698 लोगों को सुरक्षित लाया जा रहा है जिसमें 595 पुरुष और 103 महिलाएं शामिल हैं. इन 103 महिलाओं में 19 महिलाएं गर्भवती हैं.

आईएनएस जलश्व ने मालदीव की राजधानी माले में फंसे 698 भारतीय नागरिकों को वापस लाने का काम शुरू कर दिया है. भारतीय नौसेना के अनुसार, मालदीव से वापस लाए जा रहे भारतीय नागरिकों में 19 गर्भवती महिलाएं भी हैं.

सूत्रों का कहना है कि आईएनएस जलश्व और आईएनएस मगर को मालदीव में फंसे 1,800 से 2,000 भारतीय लोगों को सुरक्षित स्वदेश लाने के ऑपरेशन में लगाया गया है. इसके जरिेए 4 यात्राएं की जाएंगी जिसमें 2 कोच्चि से और 2 तूतीकोरिन से होंगी.

सूत्र बताते हैं कि मालदीव से लाने के लिए प्राथमिकता तय कर दी गई है. सबसे पहले चिकित्सा से जुड़े मामले, वरिष्ठ नागरिकों, परिवार की आपात स्थिति और बेरोजगार लोगों को भारत लाया जाएगा.


ADVERTISEMENT