राहुल गांधी बोले- ताली बजाना, दीया जलाना हल नहीं, कोरोना से जंग के लिए ज्यादा टेस्ट जरूरी


कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा है कि भारत में कोरोना वायरस से निपटने के लिए पर्याप्त रूप से टेस्ट नहीं हो पा रहे हैं. उन्होंने बिना नाम लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा और कहा कि लोगों के ताली बजाने और दीया जलाने से इस समस्या का समाधान नहीं किया जा सकता है.

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने रविवार को ट्वीट कर कोरोना वायरस के टेस्ट का दायरा बढ़ाए जाने की मांग की. राहुल गांधी ने कहा, 'कोविड-19 से निपटने के लिए भारत अभी पर्याप्त टेस्ट नहीं कर रहा है. लोगों के ताली बजाने और दीया जलाने से समस्या का समाधान होने नहीं जा रहा है.'

राहुल गांधी ने अपने ट्वीट मेें एक ग्राफ भी शेयर किया है जिसमें दुनियाभर में प्रति मिलियन आबादी के हिसाब होने वाले टेस्ट और पॉजिटिव पाए जाने वाले मामलों के बीच संबंध को प्रदर्शित किया गया है.

कोरोना टेस्ट बढ़ाने की मांग

बड़े पैमाने पर कोरोना टेस्ट की संख्या बढ़ाए जाने की मांग लगातार बढ़ती जा रही है. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी भी टेस्ट की दर बढ़ाए जाने की मांग कर चुकी हैं. प्रियंका गांधी ने टेस्टिंग की दर बढ़ाने को जरूरी बताते हुए कहा कि इससे रोग की गंभीरता और फोकल पाइंट्स के संबंध में अधिक मूल्यवान जानकारी प्राप्त होती है. बड़े पैमाने पर शोध देश में मेडिकल इन्फ्रास्ट्रक्चर सिस्टम के लिए मददगार साबित होंगे. सरकार को अब कार्रवाई करनी चाहिए. उन्होंने कहा है कि लॉकडाउन के परिणाम प्राप्त करने के लिए इसे प्रोत्साहित किया जाना चाहिए.

सभी भारतीय का हो कोरोना टेस्ट

कोरोना टेस्ट की दर बढ़ाने की मांग का मामला सुप्रीम कोर्ट भी पहुंच चुका है. सुप्रीम कोर्ट में शुक्रवार को एक जनहित याचिका दायर कर मांग की गई थी कि भारत में सभी लोगों का कोरोना टेस्ट किया जाए. इस याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से जवाब तलब किया है.

पीएम की दीया जलाने की अपील

कोरोना संकट के चलते देश में 21 दिनों तक लागू किए गए लॉकडाउन के नौवें दिन शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को फिर संबोधित किया. प्रधानमंत्री ने देशवासियों से अपील करते हुए कहा कि कोरोना के अंधकार को प्रकाश की ताकत से हराने की जरूरत है. इसके लिए प्रधानमंत्री ने लोगों से रविवार को रात नौ बजे नौ मिनट तक दीया जलाने की अपील की है, इसका मकसद एकजुटता का संदेश देने से है.

इस अपील के तहत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, '5 अप्रैल यानी इस रविवार को रात नौ बजे लोग अपने घरों से बाहर आएं. घरों की लाइटें बंद करें और दरवाजे पर खड़े होकर दीया जलाएं, मोमबत्ती जलाएं या फिर कुछ भी प्रकाश जलाएं. इस शक्ति के जरिए हम ये संदेश देना चाहते हैं कि देशवासी एकजुट हैं. पीएम ने कहा कि एकजुटता के दमपर ही इस महामारी को मात दी जा सकती है'.