अमेरिका में भारतीय मूल की डॉक्टर को मिला सम्मान, कोरोना मरीजों का करती हैं इलाज


कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए लॉकडाउन जारी है, लेकिन इस महामारी के खिलाफ असली जंग लड़ रहे हैं हमारे डॉक्टर्स और मेडिकल स्टाफ. कई राज्यों में डॉक्टर्स और मेडिकल स्टाफ रोजाना अपने घरों से अस्पताल के लिए रवाना हो रहे हैं. यानी कि वो अपने साथ-साथ परिवारवालों की जान भी मुसीबत में डाल रहे हैं. इतना ही नहीं अगर वो किसी संदिग्ध इलाकों में जांच करने जा रहे हैं तो वहां के स्थानीय लोग उनपर हमले कर दे रहे हैं. यानी हर तरफ से मुश्किल में मेडिकल स्टाफ ही हैं.

हालांकि अमेरिका जैसे देशों में डॉक्टर और मेडिकल स्टाफ के कामकाज को काफी सराहा जा रहा है. अमेरिका के दक्षिणी विंडसर अस्पताल में भारतीय मूल की डॉक्टर उमा मधुसूदन ने कई कोरोना पीड़ितों का इलाज किया है. उनके काम को प्रोत्साहन देने के लिए स्थानीय पुलिस, पड़ोसी और लोकल फायरमैन ने उनके घर के सामने जाकर सम्मानित किया.

जाहिर है भारत जैसे देश को सीखने की जरूरत है. हमारे यहां 100 से ज्यादा डॉक्टर्स और मेडिकल स्टाफ पहले ही कोरोना संक्रमित पाए जा चुके हैं. इसके बावजूद वो अपनी जान पर खेलकर लोगों का इलाज कर रहे हैं. हाल के दिनों में उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद, बिहार के औरंगाबाद और मध्य प्रदेश के इंदौर से शर्मसार करने वाली तस्वीरें सामने आई थी. जहां पर स्थानीय लोगों ने ही इलाज करने आए मेडिकल स्टाफ पर हमला कर दिया.