नीतीश सरकार ने दी राहत, बिहार के बाहर फंसे मजदूरों के खाते में पहुंचे पैसे


लॉकडाउन में बिहार से बाहर फंसे मजदूरों और जरूरतमंद लोगों की सहायता के लिए नीतीश कुमार सरकार ने 1000 रुपये की सहायता राशि पहुंचाने का काम शुरू किया. मुख्यमंत्री राहत कोष से मुख्यमंत्री विशेष सहायता के तहत बिहार से बाहर फंसे मजदूरों और अन्य लोगों को सीधे उनके बैंक खाते में डीबीटी के माध्यम से 1000 रुपये राशि पहुंचाने का काम शुरू किया गया.

पहले चरण में कोविड-19 की वजह से राज्य से बाहर फंसे 1 लाख 3 हजार 579 लोगों के खाते में 10 करोड़ 35 लाख 79 हजार रुपये की राशि जमा कराई गई. कोविड-19 की वजह से राज्य सरकार को अभी तक बिहार से बाहर फंसे 2 लाख 84 हजार 674 आवेदन प्राप्त हुए हैं.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने निर्देश जारी किया है कि जिन लोगों को पहले चरण में उनके बैंक खाते में राशि जमा नहीं कराई गई है उनको जल्द यह राशि मुहैया कराई जाए.

राज्य सरकार को सबसे ज्यादा आवेदन दिल्ली से प्राप्त हुए, जहां पर 55264 मजदूर और अन्य जरूरतमंद लोग फंसे हुए हैं. हरियाणा से 41050, महाराष्ट्र से 30576, गुजरात से 25638, उत्तर प्रदेश से 23832, पंजाब से 15596, कर्नाटक से 15428, तमिलनाडु से 11914, राजस्थान से 11776 और अन्य कई राज्यों से फंसे बिहार के लोगों ने राज्य सरकार को आर्थिक मदद के लिए आवेदन किया है.