About Me

header ads

शाहीन बाग में खाना खिलाता था PFI सदस्य, कहा- मुझे फंसाया गया


दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल ने पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) मेंबर दानिश अली को त्रिलोकपुरी से गिरफ्तार किया है. पीएफआई मेंबर दानिश अली की गिरफ्तारी के बाद कई राज सामने आ रहे हैं. शुरुआती जांच में यह जानकारी सामने आई है कि दानश अली शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों के लिए खाना और पैसे मुहैया कराता था. शुरुआती जानकारी के मुताबिक दिल्ली हिंसा में भी पैसे और बाहर से लोग मुहैया कराया था.

हालांकि दानिश खुद हिंसा में शामिल नहीं रहा और वह पीएएफआई में काउटंर इंटेलिजेंस का हेड था. काउंटर इंटेलिजेंस का काम अफसरों को निशाना बनाना है. गिरफ्तारी के बाद दानिश ने यह तो कबूल किया है कि वह शाहीन बाग जाता था लेकिन साथ में इस बात पर भी जोर दे रहा है कि उसका सच सामने आएगा, उसके फंसाया गया है.

पुलिस के मुताबिक पीएफआई से जुड़े अन्य सदस्य भी जांच के दायरे में हैं. जांच में यह सामने आया है कि दिल्ली में हिंसा अचानक नहीं भड़की है. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का दौरा फिक्स था. उस समय हिंसा की शुरुआत हुई. पुलिस ने पटियाला हाउस कोर्ट में कहा हिंसा के पीछे की वजह की जांच हो रही है. दानिश साल 2018 से ही पीएफआई से जुड़ा है. दानिश को पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया गया, उसे 4 दिन की पुलिस रिमांड में भेज दिया गया है.

दानिश अली पर सीएए प्रदर्शन के दौरान लोगों को भड़काने और हिंसा फैलाने का आरोप है. स्पेशल सेल ने दानिश के मामले में अलग केस दर्ज किया है.

दिल्ली हिंसा में PFI की भूमिका की जांच

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने दिल्ली दंगों में साजिश रचने के आरोप में पूर्वी दिल्ली इलाके से सोमवार को दानिश अली को गिरफ्तार किया था. उत्तर प्रदेश में भी नागरिकता कानून(सीएए) के खिलाफ भड़की हिंसा में पीएफआई का रोल सामने आया था. ऐसे में दिल्ली पुलिस भी इस बात की जांच कर रही है कि दिल्ली हिंसा में भी क्या पीएफआई की भूमिका है.

शिव विहार में लगे थे PFI के पोस्टर

स्पेशल सेल की जांच में यह खुलासा हुआ है कि शिव विहार इलाके में पीएफआई के भड़काऊ पोस्टर लगे हैं. नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली के शिव विहार इलाके में 24 और 25 फरवरी के बीच जमकर हिंसा हुई थी. उसी शिव विहार की गली-गली में पीएफआई के भड़काऊ पोस्टर लगे हुए हैं.

पोस्टर में लिखा है, 'बाबरी मस्जिद, फैसला इंसाफ के खिलाफ, आवाज उठाएं. जांच एजेंसियों का मानना है कि पीएफआई प्रोटेस्ट के दौरान शाहीन बाग समेत सभी प्रोटेस्ट में एक्टिव है. हालांकि पीएफआई का भी बयान इसी बीच सामने आया है. पीएफआई सभी आरोपों को सरकारी की साजिश बता रही है.

गिरफ्तारी के बाद क्या बोली दानिश की मां?

गिरफ्तार पीएफआई मेंबर दानिश की मां ने आज तक से हुई खास बातचीत में कहा कि मेरा बेटा एक साल से पीएफआई में है और शाहीन बाग खाना देने जाता था.

क्राइम ब्रांच भी कर रही जांच

दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल के अलावा क्राइम ब्रांच की दिल्ली दंगों में पीएफआई की भूमिका की जांच कर रही है. हालांकि पीएफआई का बयान भी सामने आया है, जिसमें सभी आरोपों को सरकार की साजिश बता रही है.