भाजपा के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा- अब दिल्ली के स्कूल-मदरसों में जरूरी हो हनुमान चालीसा का पाठ


दिल्ली में आम आदमी पार्टी की भारी बहुमत से जीत पर भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने केजरीवाल को बधाई दी है. साथ ही उन्हें सलाह दी है कि वह दिल्ली के स्कूलों और मदरसों में हनुमान चालीसा का पाठ शुरू कराएं.

कैलाश विजयवर्गीय ने ट्वीट किया, 'अरविंद केजरीवाल जी को जीत की बधाई। निश्चित ही जो हनुमानजी की शरण में आता है उसे आशीर्वाद मिलता है. अब समय आ गया है कि हनुमान चालीसा का पाठ दिल्ली के सभी स्कूलों, मदरसों सहित सभी शैक्षणिक संस्थानों में भी जरूरी हो.' उन्होंने आगे लिखा, 'बजरंगबली की कृपा से अब दिल्लीवासी बच्चे क्यों वंचित रहें?'


जानकारी हो कि दिल्ली में चुनाव भले ही खत्म हो गए हों, लेकिन 'हनुमान जी ' पर चल रही राजनीतिक उठा-पटक अबतक शांत नहीं हुई है. हनुमान चालीसा को लेकर शुरू हुआ विवाद अब भी शांत नहीं हुआ है. भाजपा की हार के बाद बुधवार सुबह भाजपा के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय अरविंद केजरीवाल को जीत की बधाई देते हुए एक बार फिर हनुमान जी को बीच में लेकर आ गए.

दिल्ली में आम आदमी पार्टी की भारी बहुमत से जीत पर अरविंद केजरीवाल को चौतरफा बधाई मिल रही हैं. विपक्ष के तमाम नेताओं समेत बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने भी उन्हें बधाई देते हुए सलाह दी है कि वह दिल्ली के स्कूलों और मदरसों में हनुमान चालीसा का पाठ शुरू कराएं। विजयवर्गीय ने कहा कि बजरंगबली की कृपा से दिल्ली के बच्चे क्यों वंचित रहें. निश्चित ही जो हनुमानजी की शरण में आता है उसे आशीर्वाद मिलता है. अब समय आ गया है कि हनुमान चालीसा का पाठ दिल्ली के सभी विद्यालयों, मदरसों सहित सभी शैक्षणिक संस्थानों में भी जरूरी हो. 

जानकारी हो कि एक जनसभा में मुख्यमंत्री योगी ने कहा था कि अभी तो केजरीवाल जी ने हनुमान चालीसा पढ़नी शुरू की है, आप देखना आगे-आगे क्या होता है. ओवैसी भी एक दिन हनुमान चालीसा का पाठ पढ़ता दिखाई देगा.  

बता दें कि इस चुनाव में एक न्यूज चैनल को साक्षात्कार के दौरान अरविंद केजरीवाल ने हनुमान चालीसा गाकर सुनाया था, जिसके बाद भारतीय जनता पार्टी के नेता उनपर चारों ओर से हमलावर हो गए हैं. कपिल मिश्रा ने भी इसे लेकर केजरीवाल पर निशाना साधा था. उन्होंने ट्वीट किया था कि केजरीवाल हनुमान चालीसा पढ़ने लगे हैं, अभी तो ओवैसी भी हनुमान चालीसा पढ़ेगा। ये हमारी एकता की ताकत है. ऐसे ही एक रहना है. इकट्ठा रहना है। एक होकर वोट करना है. कपिल मिश्रा ने आगे लिखा कि हम सबकी एकता से 20 प्रतिशत वाली वोट बैंक की गंदी राजनीति की कब्र खुदकर रहेगी.