About Me

header ads

पप्पू यादव बोले- मुझे बिहार में मत जलाना, बिहारी कहलाने में शर्म आती है


नागरिकता संशोधन कानून (सीएए), राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (एनआरसी) और रॉष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) के खिलाफ बिहार के समस्तीपुर में तीन दिन से सत्याग्रह चल रहा है. इस सत्याग्रह को संबोधित करते हुए जन अधिकार पार्टी के अध्यक्ष राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव ने विवादित बयान दिया. उन्होंने कहा कि मैं कौन पागल देश और बिहार में पैदा हो गया, जहां बोलने की आजादी छीन ली जाए. मुझे बिहारी कहने में शर्म महसूस होती है. अगर मेरी मौत हुई तो मुझे बिहार की धरती पर मत जलाना.

दरअसल जामिया मिल्लिया इस्लामिया, जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) और अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) में हुए हमले के बाद देश के कई हिस्सों में छात्रों ने प्रदर्शन किया, लेकिन बिहार में बड़े पैमाने पर छात्र आंदोलन की खबर नहीं आई. इस सपर पप्पू यादव ने कहा कि जेएनयू पर हमला हुआ तो सभी यूनिवर्सिटी सड़क पर थी, यहां तक की आंध्रा में प्रदर्शन हो रहा था, लेकिन बिहार में नहीं हुआ, इसलिए मुझे बिहारी कहलाने पर शर्म आती है. मैं गलत मुल्क और गलत बिहार में पैदा हो लिया.

एनपीआर पर बोलते हुए पप्पू यादव ने कहा कि अगर कोई आए तो किसी भी जगह दस्तखत नहीं कीजियेगा. देख रहे है न कि मुंह ढक कर हमला किया जा रहा है. अरे नरेंद्र मोदी हमला करना है तो सामने से करो न. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ट्वीट पर पप्पू यादव कहा, 'नरेंद्र मोदी ने आज सुबह ट्वीट किया है नये इतिहास की जरूरत है. पहले आप मोदी जी इतिहास पढ़ लीजिए. आपको और अमित शाह को इस मुल्क का इतिहास पता नहीं है.'

पप्पू यादव ने कहा, 'नरेंद्र मोदी जी इस मुल्क के इतिहास में जल जंगल जमीन बनाने वाले का इतिहास है. पहले आप पढ़िए, मुसलमानों से इतिहास मत पूछिए. यदि इतिहास पूछना हो तो ताजमहल से पूछ लीजिए, पूछना हो तो कुतुबमीनार से पूछिए, पूछना हो तो लालकिला से पूछ लीजिए, जिसने इतिहास बनाया उसी से आप इतिहास के बारे में पूछते हैं. पाकिस्तान हिंदुस्तान, लव जिहाद, अरे नरेंद्र मोदी जी लव जिहाद देखना हो न तो जोधाबाई क्यों नहीं देख लेते.'

सीएम योगी पर विवादित बयान

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर विवादित टिप्पणी करते हुए पप्पू यादव ने कहा, 'गलती से योगी यूपी में और मैं बिहार में पैदा हो गया. अगर दोनों एक ही राज्य में पैदा होते तो योगी के सीने पर चढ़ कर बत्तीसों हड्डियों को तोड़ देता. वो आंदोलन कर रहे लोगों से बदला लेने की बात करते हैं. यूपी में 51 लोगों की मौत हूई, जिसमें दलित भी शामिल है.'