About Me

header ads

BJP MLC का नीतीश पर बड़ा हमला- बिहार में मेरी पार्टी से हो अगला CM, हर हाल में लागू होगा NRC


नागरिकता संशोधन कानून (CAA) व राष्‍ट्रीय नागरिकता रजिस्‍टर (NRC) को लेकर बिहार में राष्‍ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) के घटक दल भी उलझने लगे हैं. मुख्‍यमंत्री (Chief Minister) व जनता दल यूनाइटेड (JDU) सुप्रीमो नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने सोमवार को विधानसभा (Bihar Assembly) में कहा कि बिहार में एनआरसी लागू नहीं होगा और सीएए पर भी बहस होनी चाहिए. इसपर पलटवार करते हुए भारतीय जनता पार्टी (BJP) के विधान पार्षद (MLC) सच्चिदानंद राय (Sachchidanand Rai) ने कहा है कि नीतीश कुमार कुछ भी कहें, एनआरसी पूरे देश में लागू होगा.

सच्चिदानंद राय ने यह भी कहा कि उनकी राय में अगला मुख्‍यमंत्री बीजेपी से होना चाहिए. इसके पहले एक और बीजेपी एमएलसी संजय पासवान (Sanjay Paswan) भी बिहार का अगला मुख्‍यमंत्री बीजेपी से देने की मांग रखी है. हालांकि, बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह (Amit Shah) पहले ही स्‍पष्‍ट कर चुके हैं कि बिहार में एनडीए अगला विधानसभा चुनाव नीतीश कुमार के नेतृत्‍व में लड़ेगा.

नीतीश कुमार ने विधानसभा में कही थी ये बात

विदित हो कि मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने बिहार विधानसभा के विशेष सत्र में सोमवार को कहा कि वे बिहार में एनआरसी लागू नहीं होने देंगे. एनआरसी का मुद्दा केवल असम के परिप्रेक्ष्य में है, जिसे प्रधानमंत्री (Prime Minister) नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) भी स्पष्ट कर चुके हैं. सीएए को लेकर अपना पक्ष रखते हुए मुख्‍यमंत्री ने कहा कि कहा कि  इसपर बहस होनी चाहिए और अगर सभी पक्ष सहमत होते हैं तो नए सिरे से विचार किया जाना चाहिए.

बीजेपी एमएलसी ने किया नीतीश पर पलटवार

मुख्‍यमंत्री के बयान पर बीजेपी एमएलसी सच्चिदानंद राय ने कहा कि नीतीश कुमार हों या कोई और, किसी के कहने से फैसला नहीं बदलने वाला। एनआरसी पूरे देश में लागू होगा. सीएए पर नीतीश कुमार के बयान को लेकर उन्‍होंने कहा कि वे प्रशांत किशोर की भाषा बोल रहे हैं. सच्चिनानंद राय इतने पर ही नहीं रुके। उन्‍होंने कहा कि पार्टी अगर चाहती है कि नीतीश कुमार एनडीए के मुख्‍यमंत्री चेहरा बनें तो अनुशासित सिपाही होने के नाते मंजूर है, लेकिन उनकी इच्‍छा तो यही है कि बिहार में बीजेपी का मुख्‍यमंत्री बने.

प्रशांत किशोर ने ट्वीट कर कही थी ये बात

विदित हो कि सीएए को जेडीयू ने संसद में समर्थन दिया था. नीतीश कुमार ने पहले कहा था कि वे सीएए के नहीं, एनआरसी के खिलाफ हैं आैर इसे बिहार में लागू नहीं होने देंगे. इसके बाद जब जेडीयू के उपाध्‍यक्ष प्रशांत किशोर ने सीएए व एनआरसी दोनों का विरोध किया तो पार्टी के अंदर-बाहर उनका विरोध होने लगा. लेकिन प्रशांत किशोर ने हाल में फिर ट्वीट कर सीएए और एनआरसी के मुद्दे पर कांग्रेस नेतृत्‍व के स्‍टैंड की तारीफ की है. साथ ही प्रियंका गांधी को विशेष धन्‍यवाद दिया है. साथ ही बिहार में सीएए और एनआरसी लागू नहीं होने देने का आश्‍वासन भी दिया है.

नीतीश कुमार बोले: सीएए पर होनी चाहिए बहस

प्रशांत किशोर का यह बयान नीतीश कुमार के पहले के बयान से इस मायने में हटकर था कि उन्‍होंने सीएए का भी विरोध किया है. जबकि, नीतीश कुमार ने सीएए नहीं, एनआरसी का विरोध किया था. इसके बाद नीतीश कुमार ने यह कहा है कि सीएए पर बहस होनी चाहिए और अगर सभी पक्ष सहमत होते हैं तो नए सिरे से विचार किया जाना चाहिए. बीजेपी एमएलसी का पलटवार नीतीश कुमार के इसी बयान पर है.

अब आगे-आगे देखिए, होता है क्‍या

गौरतलब है कि इसके पहले बीजेपी के एक और एमएलसी संजय पासवान ने भी बीजेपी से मुख्‍यमंत्री देने की मांग कर चुके हैं. उन्होंने तो इसके लिए सुशील कुमार मोदी या नित्यानंद राय के नाम भी सुझाए हैं. उनके बाद दूसरे बीजेपी एमएलसी ने भी ऐसा ही बयान दिया है. सीएए व एनआरसी के मुद्दे पर बीजेपी व जेडीयू के स्‍टैंड पर भी सियासी अटकलें तेज हो रही हैं. अब आगे-आगे देखिए, होता है क्‍या?