About Me

header ads

सड़क पर ठसक से बैठा था सांड, ड्राइवर ने हॉर्न बजाया तो किया ये हाल


सड़कों पर कोई सांड दिखे तो भूलकर भी हॉर्न नहीं बजाएं. उसे गुस्‍सा आ जाए तो आपकी शामत आ सकती है. जी हां, ऐसा ही हुआ है बिहार के वैशाली स्थित हाजीपुर रेलवे स्‍टेशन के पास. वहां बीच सड़क पर बैठे सांड को देख एक कार चालक ने हॉर्न क्‍या बजाया, साड को गुस्‍सा आ गया. उसने कार को सींग से उठाकर पटक दिया। इस घटना कर वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है.



हद तो यह है कि यह ऐसी पहली घटना नहीं है. कई घटनाओं के बाद भी पुलिस तथा नगर व सामान्‍य प्रशासन के जिम्‍मेदार अधिकारी नहीं चेते हैं। वहां सड़क पर सांड अभी भी घूमते नतर आ रहे हैं.




हाजीपुर स्‍टेशन के आसपास सांड़ों का उत्‍पात



मिली जानकारी के अनुसार हाजीपुर स्‍टेशन के आसपास लोग सांडों के उत्पात से परेशान हैं. पुलिस तथा नगर व सामान्‍य प्रशासन इसे लेकर लापरवाह बने हुए हैं. हालत यह है कि लोग सड़क पर निकलने से डरने लगे हैं. महिलाओं, बूढ़ों व बच्‍चों को सड़क पर अधिक परेशानी हो रही है. इन सांडों में से कुछ तो अपनी करतूतों से शहर में खास पहचान बना चुके हैं. इन्‍हीं में से एक है 'शेर-ए-बिहार', जो हाजीपुर स्‍टेशन के पास घूमता रहता है.



कार पर उतरा 'शेर-ए-हाजीपुर' का गुस्‍सा



हाजीपुर के इस 'शेर-ए-हाजीपुर' का गुस्‍सा चर्चित है. उसपर गुस्सा चढ़ा तो सड़क पर किसी न किसी गाड़ी की शामत आ जाती है. ऐसा ही वाकया हाल में तब हुआ, जब एक कार चालक ने हाजीपुर स्टेशन के गेट के पास सड़क पर बैठे इस सांड को हटाने के लिए हॉर्न बजा दिया. इससे शेर-ए-हाजीपुर' को गुस्सा आ गया। फिर क्या था, वह उठा और कार की शामत आ गई.



कार का निकला कचूमर, चालक भागा



सांड ने चारो तरफ से कार को उठाकर पटकना शुरू कर दिया. चालक तो किसी तरह निकलकर भाग गया, अन्‍यथा कार की तरह उसका भी कचूमर निकलना तय था. सांड का यह हाई वोल्‍टेज ड्रामा करीब 15 मिनट तक चला. आसपास के लोगों ने किसी तरह सांड को वहां से भगाया.



समस्‍या को ले नगर निगम उदासीन



स्‍थानीय लोगों ने बताया कि वे इस सांड के उत्‍पात से लोग परेशान हैं। शुक्रवार को भी इस सांड ने सड़क पर खड़े एक ऑटो रिक्‍शा पर हमला कर दिया था. ऐसे और भी कई सांड हैं। स्थानीय लोगों के अनुसार उन्‍होंने पुलिस व प्रशासन को सांडों की समस्‍या कर जानकारी दी है. नगर निगम से भी समस्‍या के समाधान का आग्रह किया है। लेकिन वे उदासीन बने हुए हैं.