About Me

header ads

टीएमसी सांसद नुसरत जहां ने कहा- मैं भगवान की विशेष संतान हूं, मैं सभी त्योहार मनाती हूं


TMC MP Nusrat Jahan पश्चिम बंगाल में कोलकाता के दुर्गा पूजा पंडाल चलता बागान में आयोजित हुआ सिंदूर खेला में टीएमसी सांसद नुसरत जहां अपने पति निखिल जैन के साथ शामिल हुईं. नुसरत ने यहां कहा कि मैं भगवान की विशेष संतान हूं और ऐसे कोई भी विवाद मेरे लिए कोई मायने नहीं रखते हैं. 

तृणमूल कांग्रेस की सांसद नुसरत जहां का लगता है विवादों से नाता रहा है उनका दुर्गा पूजा पंडाल में सिंदूर की खीर में हिस्सा लेना फिर एक विवाद बन गया है. जानकारी हो की टीएमसी सांसद नुसरत जहान अपने पति निखिल जैन के साथ चलतबगन दुर्गा पूजा पंडाल में सिंदूर की खीर नाम के एक रस्‍म में हिस्सा लेने गई उस पर फिर एक विवाद उत्‍पन्‍न हो गया है. जिसके जवाब में टीएमसी सांसद ने सिंदूर खेला में भाग लेने के दौरान मीडिया से कहा कि मैं भगवान की विशेष संतान हूं. मैं सभी त्योहार मनाती हूं. मैं मनावता और किसी भी चीज से ज्यादा प्यार करती हूं। मैं बहुत खुश हूं और विवाद मेरे लिए कोई मायने नहीं रखता हैं.

इससे पहले भी नुसरत जहां कई बार विवादों में आ चुकी हैं. नुसरत जहां बंगाल ने बशीरहाट से चुनाव लड़ा था और बड़े अंतर से जीती थीं. सांसद बनने के बाद जब वह पहली बार मिमी चक्रवर्ती के साथ संसद पहुंची थीं, तब भी काफी विवाद हुआ था.

जानकारी हो कि तृणमूल कांग्रेस की सांसद और बंगाली अभिनेत्री नुसरत जहां जब पिछले दिनों जब दूर्गा पूजा में शामिल हुई थीं तो देवबंद के उलेमा ने कई सवाल खड़े किए थे. गौरतलब है कि नुसरत जहां जब से सांसद बनी हैं, तभी से उनका विवादों से नाता रहा है. सिंदूर-बिंदी लगाकर संसद में जाना हो या फिर दुर्गा पूजा में हिस्सा लेना, हर बार मौलाना उनसे खफा हो जाते हैं. आज शुक्रवार को नुसरत जहां जब दूर्गा पूजा के सिंदूर खेला में शामिल हुईं इस दौरान उन्होंने कहा कि वह भगवान की स्पेशल बच्‍ची हैं, जो हर त्योहार में हिस्सा लेती हैं. मैं मानवता और मोहब्बत में विश्वास रखती हूं। नुसरत जहां ने कहा कि वह काफी खुश हैं और किसी भी विवाद से उनको कोई फर्क नहीं पड़ता है.

हाल ही में जब नुसरत जहां दुर्गा पूजा के कई कार्यक्रमों में शामिल हुईं तो देवबंद के उलेमाओं ने उन्‍हें अपना नाम बदलने की सलाह दे दी. देवबंदी उलेमा कहा था कि नुसरत जहां लगातार ऐसी चीज़ें कर रही हैं जो इस्लाम के खिलाफ हैं, अगर वह यही करना चाहती हैं तो अपना नाम बदल सकती हैं. तब नुसरत जहां ने जवाब दिया था कहा था कि वह किसी के कहे पर नहीं चलती हैं और जो चाहे वह कर सकती हैं.