About Me

header ads

मुर्शिदाबाद हत्याकांड के विरोध में भाजपा ने किया विरोध प्रदर्शन, राज्यपाल को सौंपा ज्ञापन






राजू साव , युवाशक्ति संवाददाता 
कोलकाता ः मुर्शिदाबाद के जियागंज में आरएसएस  कार्यकर्ता 35 वर्षीय बन्धु प्रकाश पाल सहित गर्भवती पत्नी व बेटे के निर्मम हत्या के विरोध में शनिवार को कोलकाता के मेयो रोड स्थित गांधी मूर्ति के समक्ष भाजपा द्वारा शांतिपूर्ण धरना प्रदर्शन कर विरोध जताया गया. इस अवसर पर पश्चिम बंगाल भाजपा प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष, सांसद मुकुल राय, राहुल सिंहा, भाजपा नेता भारती घोष, सायंतन बसु व अन्य भापजा कर्मी उपस्थित थे. इस मौके पर पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए  प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा कि राज्य में खुशी के माहौल को प्रशासनिक असफलता ने अशांत कर दिया है. उन्होंने कहा राज्य में मानवता को बचाने के लिए यह आंदोलन जारी रहेगा. आज यह केवल डेमो है. आवश्यकता पड़ने पर नवान्न घेराव भी किया जाएगा. उन्होंने कहा कि राज्य की मौजूदा सरकार प्रशासनिक व्यवस्था पालन करने में फेल हो चुकी है. तृणमूल पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी राजनीति करके ही सत्ता में आई है और आज भाजपा पर राजनीति का आरोप लगा रही है.
 दिलीप घोष ने कहा जिस प्रकार से जम्मू -कश्मीर में धारा 370 को निरस्त किया गया. उसी प्रकार से राज्य में सिटीजन अमेंडमेंट बिल पास कर एनआरसी लागू किया जाएगा. तृणमूल सरकार एवं मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर बरसते हुए उन्होने कहा कि राज्य सरकार को गंगा में उखाड़ फेंकेंगे तभी दम लेंगे. उन्होंने कहा, जब तक राज्य में तृणमूल सरकार रहेगी रक्तपात होता रहेगा. प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने ममता बनर्जी पर सीधे तौर पर हमला बोला. उन्होंने कहा कि दीदी के दिन पूरे हुए अब बोरिया बिस्तर समेटने का दिन आ गया है. दिलीप घोष ने राज्य में पुलिस एवं सरकार की आलोचना करते हुए राज्य की मौजूदा सरकार पर पुलिस बल के दुरूपयोग का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि आज आम लोगों के मन से पुलिस के प्रति सम्मान और भय गायब है. पुलिस गाड़ियों एवं थानों को जलाया जा रहा है. पुलिस वाले जान बचाकर भागने को मजबूर है. आखिर इसकी जिम्मेवारी कौन लेगा?  दिलीप  घोष ने कहा कि राज्य में शांति व्यवस्था कायम करना प्रशासन का काम है. यदि ऐसा नहीं हुआ तो इसके विरुद्ध शांतिपूर्ण तरीके से आंदोलन चलाया जाएगा.   इस घटना को लेकर राज्यपाल के बयान को राजनीति बताने वालों को भी दिलीप घोष ने जवाब दिया. उन्होंने कहा कि राज्यपाल द्वारा घटना की निंदा किये जाने पर राज्यपाल की आलोचना की जा रही है क्या यह किसी प्रकार से संवैधानिक है? 
इस शांतिपूर्ण धरना प्रदर्शन में शामिल मुकुल राय ने कहा राज्य में प्रशासनिक व्यवस्था चरमरा गई  है. उन्होंने  इस घटना की निंदा करते हुए राज्य में व्यापक जनआंदोलन का आह्वान किया. 
भाजपा नेत्री भारती घोष ने कहा कि राज्य में जिस प्रकार से निर्मम हत्या की जा रही है. यह अराजकता की निशानी है. भारती घोष ने कहा इस दुखद घटना को लेकर मुख्यमंत्री की चुप्पी निराशाजनक है. राज्य की जनता इसका विचार करेगी. उन्होंने इस घटना में चुप्पी साधने वाले छद्म बुद्धिजीवियों की भी आलोचना की. 
भाजपा नेता  सायंतन बसु ने कहा कि खून और जिहाद जैसे खराब कामों में बंगाल आगे है. उन्होंने कहा, पुलिस केवल मुख्यमंत्री के निर्देश पर काम कर रही है. उन्होंने कहा कि बंगाल में अब तक भाजपा के करीब 75 कर्मियों को मौत के घाट उतार दिया गया है लेकिन भाजपा इससे डरने वाली नहीं है. नए तरीके से आंदोलन किया जाएगा. 
भाजपा नेता राहुल सिंहा ने कहा कि लाख कोशिश के बाद भी राज्य में भाजपा की बढ़ती लोकप्रियता से घबड़ा कर अब तृणमूल हत्या पर उतारू है. उन्होंने सवाल उठाया कि जियागंज में मारे गए परिवार की मौत पर मुख्यमंत्री चुप क्यों है? इसका जवाब उन्हें देना पड़ेगा. 
गौरतलब है कि राज्य में बढ़ते हिंसक घटनाओं को लेकर भाजपा ने कमर कस ली है. हाल ही में घटी इस घटना को केंद्र कर भाजपा ने तृणमूल सरकार एवं मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के खिलाफ जोरदार आंदोलन आरंभ कर दिया है . हाल ही में राज्य में विधान सभा चुनाव होने है. भाजपा ने पहले ही राज्य में सत्ता परिवर्तन का हुंकार भर दिया है. भाजपा के वरिष्ठ नेताओं में जेपी नड्डा एवं केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह के बंगाल दौरे ने राज्य में चुनावी बदलाव का बिगुल बजा दिया है. ऐसे मौके पर राज्य में घटित इस घटना ने पश्चिम बंगाल सरकार की समस्या और बढ़ा दी है. अब देखना यह होगा कि भविष्य में बंगाल की  राजनितिक संघर्ष कौन सा मोड़ लेती है.