इमरान खान के बिगड़े बोल, UNGA में कहा- कर्फ्यू हटते ही कश्मीर में होगा खून-खराबा


संयुक्त राष्ट्र महासभा में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने अप्रत्यक्ष रूप से भारत पर हमला करते हुए कश्मीर में खून-खराबे की गीदड़भभकी दी. इमरान ने वैश्विक मंच से खुलेआम कहा कि एक बार फिर पुलवामा जैसा हमला होगा. खान ने कहा कि भारत को कश्मीर से कर्फ्यू हटाना ही चाहिए.

इसके साथ ही खान ने कहा कि भारत ने कश्मीर में यूएन के प्रस्ताव के खिलाफ काम किया. कश्मीर पर बिना सोच-विचारे फैसला लिया गया. कश्मीर से कर्फ्यू हटते ही खून-खराबा होगा.

इमरान ने कहा कि पुलवामा हमले के लिए भारत ने पाकिस्तान को जिम्मेदार ठहराया. भारत ने हमले के सबूत देने के बजाय हम पर बम बरसाए. उन्होंने कहा कि भारत ने 350 आतंकवादियों को मारने का दावा किया, जो पूरी तरह झूठ है.

इमरान ने कहा कि हमने भारत का पायलट लौटा दिया लेकिन इसे उन्होंने कमजोरी के रूप में लिया.

इमरान ने अपने संबोधन में कहा कि अमेरिका में 9/11 हमले से पहले दुनिया में सबसे ज्यादा सुसाइड अटैक तमिल टाइगर्स ने किए. लेकिन इसके लिए किसी ने हिंदू धर्म को जिम्मेदार नहीं माना.

पाकिस्तानी पीएम ने कहा कि हमने सत्ता में आते ही देश की शांति के लिए काम किया. मुजाहिद्दीन अमेरिका की मदद से तैयार हुए. हमने आतंक के खात्मे के लिए कदम उठाए.

इमरान ने सबसे ज्यादा इस्लाम-इस्लामोफोबिया शब्द का किया इस्तेमाल

संयुक्त राष्ट्र महासभा के सत्र को संबोधित करते हुए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने 71 बार मुस्लिम, इस्लाम और इस्लामोफोबिया का जिक्र किया, जबकि 28 बार आतंकवाद शब्द का इस्तेमाल किया.

इमरान खान के भाषण में पाकिस्तान और कश्मीर शब्द 25 बार आए, जबकि भारत शब्द का इस्तेमाल 17 बार हुआ. इसके अलावा इमरान खान ने 14 बार मनी, 11 बार 9/11 हमला, 12 बार मोदी, 12 बार आरएसएस, 8 बार यूएन, 6 बार अफगानिस्तान, 6 बार हिंदू, 6 बार अल्पसंख्यक, 10 बार मानवाधिकार, 6 बार वाटर और ग्लेशियर, 5 बार कर्फ्यू, 5 बार खूनखराबा, 2 बार शांति, 3 बार युद्ध, 2 बार परमाणु बम, 2 बार बलोचिस्तान, दो बार पुलवामा, एक बार रोहिंग्या मुस्लिम, एक बार अभिनंदन, एक बार बालाकोट, एक बार कुलभूषण जाधव समेत अन्य शब्दों का इस्तेमाल किया.

बता दें कि संयुक्त राष्ट्र महासभा में सभी नेताओं को अपनी बात रखने के लिए 15 मिनट का समय दिया जाता है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इसका पालन किया , वहीं पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने समय सीमा को ताक पर रख कर करीब 50  मिनट तक भाषण दिया.