विदेश में पढ़ने से लेकर तिहाड़ जेल तक पहुंचने की दिलचस्प है चिदंबरम की कहानी


दिल्ली की राउज एवेन्यू कोर्ट ने आईएनएक्स मीडिया मामले में कांग्रेस के दिग्गज नेता पी चिदंबरम को तिहाड़ जेल भेज दिया है. मनमोहन सिंह की सरकार में गृहमंत्री और वित्तमंत्री रहे पलानीअप्पन चिदंबरम तमिलनाडु राज्य के चेट्टियार समुदाय से आते हैं.  इस समुदाय के लोग बेहद उद्यमी माने जाते हैं. जैसे गुजरात के लोगों की छवि कारोबार और व्यापार से जुड़ी है, ठीक इसी तरह तमिलनाडु के चेट्टियार समुदाय का विदेश व्यापार से गहरा नाता रहा है.

पी चिदंबरम समृद्ध परिवार से आते हैं. उनका परिवार तमिलनाडु के शिवगंगा ज़िले में कराइकुडी इलाके का रहने वाला है. हालांकि जब उनके परिवार ने चिदंबरम से घर का कारोबार संभालने को कहा गया, तो उन्होंने इससे साफ इनकार कर दिया.

चिदंबरम की स्कूली शिक्षा चेन्नई स्थित मद्रास क्रिश्चियन कॉलेज हायर सेकेंड्री स्कूल से हुई. इसके बाद उन्होंने प्रेसिडेंसी कॉलेज से विज्ञान में ग्रेजुएट की पढ़ाई की. इसके बाद उन्होंने अमेरिका के हार्वर्ड यूनिवर्सिटी से बिजनेस मैनेजमेंट और कानून की पढ़ाई की.

पी चिदंबरम की गिनती सुप्रीम कोर्ट के दिग्गज वकीलों में की जाती है. उन्होंने कई हाईकोर्ट में भी वकालत की. चिदंबरम ने वकालत के दौरान राजनीति भी शुरू कर दी थी और ट्रेड यूनियन के कई केस लड़े. माना जाता है कि चिदंबरम के राजनीतिक जीवन का सफर यहीं से शुरू होता है.

1984 में पहली बार चुनाव जीते चिदंबरम

पी चिदंबरम ने 1984 में तमिलनाडु की शिवगंगा लोकसभा सीट से चुनाव लड़ा था और जीतकर पहली बार लोकसभा पहुंचे थे. इसके बाद राजनीति में उनका कद दिनोंदिन बढ़ता गया और वो भारत के गृहमंत्री के पद तक पहुंचे. मनमोहन सरकार में उनको वित्तमंत्री और गृहमंत्री तक बनाया गया.

बताया जा रहा है कि चिदंबरम की राजीव गांधी से पहली बार एयरपोर्ट में मुलाकात हुई थी. इस मुलाकात में राजीव गांधी चिदंबरम से बहुत प्रभावित हुए थे. यह वह दौर था, जब इंदिरा गांधी अपने बेटे राजीव गांधी को राजनीति में ढालने की कोशिश कर रही थीं.

नलिनी से मुलाकात और शादी

बताया जा रहा है कि जब पी चिदंबरम पढ़ाई करके वापस लौटे, तब उनकी मुलाक़ात नलिनी से हुई. नलिनी एक समृद्ध परिवार से तो थीं, लेकिन पी चिदंबरम की जाति की नहीं थीं. नलिनी के पिता हाईकोर्ट में न्यायमूर्ति थे. जब पी चिदंबरम ने अपने परिवार में नलिनी से शादी करने की बात कही, तो उनको घर छोड़ने के लिए कह दिया गया.

ऐसे तिहाड़ जेल पहुंच गए चिदंबरम

दिल्ली की राउज एवेन्यू कोर्ट ने गुरुवार को आईएनएक्स मीडिया मामले में पी चिदंबरम को तिहाड़ जेल भेज दिया है. ये मामला 2007 का है, जब चिदंबरम यूपीए-2 सरकार में वित्तमंत्री थे. आईएनएक्स मीडिया मामले में चिदंबरम पर केंद्रीय वित्तमंत्री रहने के दौरान पद का दुरुपयोग करने और फॉरेन इन्वेस्टमेंट प्रोमोशन बोर्ड (एफआईपीबी) से गैरकानूनी तरीके से मंजूरी दिलाने का आरोप है. इसके अलावा एयरसेल मैक्सिस मामले में भी पी चिदंबरम घिरे हुए हैं. इन कंपनियों को विदेशी निवेश की मंजूरी दिलाने के बदले पी चिदंबरम के बेटे की कंपनी को फायदा पहुंचाने का आरोप है.