About Me

header ads

IMF ने कहा, नाजुक स्थिति में पहुंच चुकी है पाकिस्तान की इकोनॉमी


अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आइएमएफ) ने कहा कि पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था बहुत नाजुक हालत में है और इसे महत्वाकांक्षी और सख्त सुधारों की जरूरत है। आइएमएफ हाल ही में नकदी के संकट से जूझ रहे पाकिस्तान को 6 अरब डॉलर यानी कि लगभग 41 हजार करोड़ रुपये का बेलआउट पैकेज देने पर राजी हुआ है।

पाकिस्तान का विदेशी मुद्रा भंडार इस समय 8 अरब डॉलर यानी कि लगभग 55 हजार करोड़ रुपये से भी कम है। इससे पाकिस्तान महज 1.7 माह का आयात बिल चुका सकता है। बीते वर्ष अगस्त में सत्ता संभालने के बाद से इमरान खान की सरकार आइएमएफ से राहत पैकेज के लिए बात कर रही थी। पिछले सप्ताह आइएमएफ ने उसे 6 अरब डॉलर का कर्ज देने पर औपचारिक मंजूरी दी है। इसमें से 1 अरब डॉलर यानी कि लगभग 6.9 हजार करोड़ रुपये की पहली किश्त जल्द ही पाकिस्तान तक पहुंच जाएगी। पिछले लगभग 3.5 दशकों में आइएमएफ की तरफ से पाकिस्तान को मिलने वाला यह 13वां बेलआउट पैकेज है।

आइएमएफ एक्जीक्यूटिव बोर्ड के कार्यवाहक चेयरमैन डेविड लिप्टन ने कहा कि बड़ी वित्तीय आवश्यकताओं, कमजोर और असंतुलित विकास की वजह से पाकिस्तान आर्थिक मोर्चे पर चुनौतियों का सामना कर रहा है। उन्होंने हालात से निपटने के लिए टैक्स का आधार और टैक्स राजस्व बढ़ाने की जरूरत पर बल दिया। आर्थिक असंतुलन को सही करने, मुद्रा भंडार बढ़ाने और महंगाई को नियंत्रित रखने के लिए सख्त मौद्रिक नीति की भी जरूरत होगी। आइएमएफ का कहना है कि नीतिगत मोर्चे पर तत्काल कदम उठाए बिना वित्तीय एवं आर्थिक स्थिरता पर खतरा बना रहेगा।