Monday, January 11, 2016

सरकार गठन पर संशय कायम : सोनिया, गडकरी ने महबूबा से मुलाकात की


श्रीनगर : जम्मू कश्मीर में नई सरकार के गठन को लेकर संशय बने रहने के बीच कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने शोक जताने के लिए पीडीपी नेता महबूबा मुफ्ती से मुलाकात की लेकिन इन मुलाकातों को राजनीतिक रूप से महत्वपूर्ण माना जा रहा है।

इन मुलाकातों के बीच भाजपा नेता और पूर्व उपमुख्यमंत्री निर्मल सिंह ने भरोसा जताया कि पीडीपी के साथ गठबंधन कायम रहेगा और उन्होंने कहा कि पार्टी ने राज्यपाल एन एन वोहरा को लिखा है कि गठबंधन सहयोगी जो भी फैसला करती है, उस पर उसे विचार विमर्श करना होगा।

सोनिया आज दिल्ली से यहां पहुंचीं। वह अपराह्न तीन बजे हवाईअड्डे से सीधे यहां गुपकर में महबूबा के फेयरव्यू आवास पहुंचीं। वह करीब 20 मिनट तक पीडीपी अध्यक्ष के साथ रहीं। सोनिया ने उनके पिता तथा जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री मुफ्ती मोहम्मद सईद के निधन पर शोक प्रकट किया। सईद का पिछले गुरूवार को निधन हो गया था।

सोनिया गांधी की पार्टी 2002 से 2008 के बीच पीडीपी के साथ जम्मू कश्मीर की सत्ता में साझेदारी कर चुकी है। सोनिया ने सईद को ‘‘बहुत अच्छा प्रशासक बताया जो जम्मू कश्मीर के लोगों के कल्याण के लिए प्रतिबद्ध’’ थे। उन्होंने सईद को एक ऐसा व्यक्ति बताया जिनके भीतर विविधता का सम्मान एवं सहिष्णुता संबंधी सर्वोत्तम भारतीय गुण परिलक्षित होते थे।

उन्होंने कहा, ‘‘मुफ्ती साहेब पार्टी सीमाओं से ऊपर थे। वह पार्टी संबद्धता से परे थे। वह सभी के थे।’’ कांग्रेस अध्यक्ष के साथ राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद, पार्टी महासचिव अंबिका सोनी, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष जी ए मीर और पार्टी नेता सैफुद्दीन सोज भी थे।