Tuesday, January 12, 2016

दिग्विजय सिंह ने की गडकरी को बर्खास्त करने की मांग


नई दिल्ली : कांग्रेस ने केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी को तत्काल बर्खास्त किये जाने की मांग करते हुए सोमवार को आरोप लगाया कि आईआरबी इन्फ्रास्ट्रक्चर डवलपर्स लिमिटेड को 10,050 करोड़ रपये का जोजिला दर्रा सुरंग का ठेका देना सर्वोच्च स्तर पर भ्रष्टाचार का स्पष्ट मामला है।

कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने पार्टी मुख्यालय में संवाददाताओं से कहा कि सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री गडकरी ने ठेका देते समय कथित तौर पर सीवीसी के दिशानिर्देशों का उल्लंघन किया।

हालांकि गडकरी ने भ्रष्टाचार के आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि सिंह के आरोप पूरी तरह झूठे हैं क्योंकि मंत्रालय ने पारदर्शी ई-निविदा प्रणाली का पालन किया। उन्होंने इस बात से भी इनकार किया कि उनका बेटा आईआरबी इन्फ्रास्ट्रक्चर डवलपर्स में एक निदेशक है।

सिंह ने दावा किया कि अजीब और असाधारण बात यह है कि जम्मू कश्मीर में इतनी बड़ी परियोजना के लिए बोली लगाने वाली एकमात्र कंपनी आईआरबी थी। उन्होंने कहा कि सरकार को स्विस चैलेंज पद्धति को अपनाना चाहिए था।

स्विस चैलेंज पद्धति सरकारी खरीद का एक प्रारूप है जिसमें एक सार्वजनिक प्राधिकरण जरूरी होता है।

सिंह ने आरोप लगाया कि गडकरी का आईआरबी के प्रमुख दत्तात्रेय म्हाईस्कर से व्यापारिक लेनदेन है और इस कंपनी के गडकरी के विवादास्पद पूर्ति समूह में शेयर हैं। उन्होंने दावा किया कि गडकरी के बेटे निखिल आईआरबी की एक सहायक कंपनी में कुछ साल तक निदेशक रहे थे।

कांग्रेस महासचिव ने कहा कि उन्होंने आज मुख्य सतर्कता आयुक्त केवी चौधरी से मुलाकात की और संबंधित साक्ष्य का हवाला देते हुए शिकायत दर्ज कराई। वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर भी उनके इस दावे के अनुरूप गडकरी को तत्काल बख्रास्त करने की मांग कर रहे हैं कि उनकी सरकार भ्रष्टाचार को कतई बर्दाश्त नहीं करेगी।

उन्होंने पूर्व भाजपा अध्यक्ष गडकरी पर निशाना साधते हुए कहा, ‘‘यह सर्वोच्च स्तर पर भ्रष्टाचार का स्पष्ट मामला है।’’