Wednesday, October 21, 2015

शरीर के बाहर धड़कता है 18 वर्षीय अर्पित का दिल

अहमदाबाद : अहमदाबाद से 40 किमी दूर छापरा गांव के एक किसान के 18 साल का बेटा  अर्पित का दिल उसके जन्म से ही शरीर के बाहर है और उसे धड़कते हुए कोई भी देख सकता है। डॉक्टर्स के मुताबिक देश का पहला ऐसा मामला है। इस मामले ने मेडिकल साइंस को भी हैरत में डाल दिया है।दरअसल, अर्पित के शरीर से के बाहर से धड़कते हुए दिल ने पूरे चिकित्सा जगत को हिला दिया है, क्योंकि आमतौर पर इस तरह के बच्चों की मौत जन्म के कुछ समय बाद ही हो जाती है लेकिन अर्पित बिलकुल ठीक है और बच्चों कि तरह खेलता है, घर के सारे काम करता है।सबसे आश्चर्य की बात तो यह है कि अर्पित अपने शरीर से बाहर धड़कते हुए दिल के संग बाइक से लेकर ट्रैक्टर तक चला लेता है। अर्पित का जन्म 1997 में हुआ था। जन्म के समय उसका दिल बाहर देखकर डॉक्टर्स भी हिल उठे थे।परिवार के सदस्य सदमे में आ गए थे, क्योंकि डॉक्टरों की राय थी कि ऐसे केस में बच्चा ज्यादा दिनों तक जिंदा नहीं रह पाएगा। बच्चे के जन्म पर आमतौर पर खुशियां मनाई जाती हैं लेकिन अर्पित का परिवार तो मातम मना रहा था। उन्हें चिंता इसी बात की थी कि आखिर यह बच्चा कितने दिन इस दुनिया को देख पाएगा?जैसे-जैसे वक्त बीता, वैसे-वैसे अर्पित बड़ा होने लगा और उसे शरीर के बाहर धड़कते हुए दिल से कोई दिक्कत नहीं आई। वो आम बच्चे जैसी जिंदगी जीने लगा। अर्पित अब 18 बरस का हो गया है और उसका कहना है कि उसे अपनी शारीरिक संरचना से कोई परेशानी नहीं है। वह सभी काम खुद करता है। हां, पढ़ाई-लिखाई में अर्पित का ज्यादा मन नहीं लगा और वह केवल 9 जमात तक ही पढ़ सका। पढ़ाई छोड़ने के बाद वह अपने किसान पिता का खेती में हाथ बंटाता है।