पार्थ चटर्जी के राज में गैरकानूनी तरीके से रुपए तैयार करने का कारखाना बन गया था बंगाल का शिक्षा विभाग