अफगानिस्तान में सरकार गठन से पहले तालिबान का दावा- पंजशीर पर किया कब्जा

अफगानिस्तान में सरकार के गठन से पहले तालिबान ने बड़ा दावा किया है। तालिबान ने कहा है कि उसके लड़ाकों ने पंजशीर घाटी पर भी कब्जा कर लिया है, जिसके बाद पूरे अफगानिस्तान पर अब तालिबान का पूर्ण नियंत्रण हो गया है। सूत्रों के अनुसार पंजशीन में जीत के दावे के बाद अफगान राजधानी काबुल में भारी फायरिंग कर जश्न मनाया गया।

वहीं, पूर्व उपराष्ट्रपति अमरुल्ला सालेह ने तालिबान के दावे को पूरी तरह से खारिज कर दिया है। उन्होंने कहा कि उनके देश छोड़ने की खबरें झूठी हैं। एएनआइ के अनुसार सालेह ने आरोप लगाया है कि तालिबान युद्ध अपराध कर रहा है और मानवाधिकारों का पूरी तरह से उल्लंघन कर रहा है। वह पंजशीर में दवाएं और अन्य जरूरी सामग्री आने से रोक रहा है। उन्होंने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से तालिबान के बर्बर कृत्यों पर विचार करने का आह्वान किया है। इस बीच, रजिस्टेंस फोर्स ने तालिबान के कम से कम 350 लड़ाकों को मारने और 290 पकड़ने का दावा किया है।

अफगानिस्तान पर कब्जे के बाद तालिबान नई सरकार के गठन को लेकर शनिवार को एलान करेगा। इससे पहले नई सरकार के गठन को लेकर शुक्रवार को एलान किया जाना था, लेकिन इसे एक दिन के लिए टाल दिया गया है। सूत्रों ने बताया कि नई अफगान सरकार का नेतृत्व बरादर करेंगे। नई सरकार के गठन के लिए तैयारी अंतिम चरण में है। बता दें कि अफगानिस्तान के ज्यादातर हिस्सों पर नियंत्रण के बाद तालिबान ने गत 15 अगस्त को काबुल पर कब्जा कर लिया था। तभी से नई सरकार के गठन की प्रक्रिया चल रही है।

सरकार में होंगे 25 मंत्री

तालिबान सूत्रों के अनुसार, संगठन के सदस्यों के साथ ही नई सरकार का गठन किया जाएगा। सरकार में 25 मंत्रियों को शामिल किया जाएगा, जिसमें 12 मौलवी होंगे। उन्होंने बताया कि कैबिनेट का जल्द गठन होगा, लेकिन इस बारे में अभी स्थिति पूरी तरह साफ नहीं है।