बिहार के एक करोड़ 29 लाख बच्‍चों के खाते में एक-दो दिनों में पहुंच जाएगी राशि, मिलेंगे इतने रुपये

कोरोना प्रोटोकाल का पालन करते हुए 72 हजार प्रारंभिक विद्यालयों (Primary Schools) में बच्चों की पढ़ाई शुरू हो चुकी है। फिलहाल बच्चे पिछली कक्षाओं के पाठ्य-पुस्तकों पर आधारित कैचअप कोर्स से पढ़ रहे हैं। इस बीच शिक्षा विभाग (Bihar Education Department) ने पहली से आठवीं कक्षा तक के 1 करोड़ 29 लाख बच्चों को किताबों की खरीद के लिए 402 करोड़ रुपये भेजने की तैयारी पूरी कर ली है। अगले दो-तीन दिनों में विभाग द्वारा डीबीटी के माध्यम से बच्चों के खाते में राशि भेजी जाएगी। पहली से चौथी कक्षा तक के बच्चों को 250 रुपये (प्रति छात्र) और पांचवीं से आठवीं कक्षा के छात्र-छात्राओं को 400-400 रुपये उनके बैंक खाते में डीबीटी से उपलब्ध कराए जाएंगे। 

402 करोड़ 71 लाख रुपये कराए गए उपलब्‍ध 

शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी के मुताबिक चालू सत्र में प्रारंभिक विद्यालयों में पढ़ने वाले 1 करोड़ 29 लाख 6682 बच्चों को किताब खरीदने के पैसे भेजने की अनुमति दी गई है, ताकि बच्चों की पढ़ाई सुचारु रूप से हो सके। इसके लिए शिक्षा विभाग की ओर से 402 करोड़ 71 लाख 15 हजार रुपये उपलब्ध कराए गए हैं। शिक्षा मंत्री ने बताया कि बच्चों के पास किताबें होनी ही चाहिए। बिहार राज्य पाठ्य पुस्तक प्रकाशन निगम के प्रबंध निदेशक मनोज कुमार को निर्देश दिया गया है कि सभी जिलों में किताबों की उपलब्धता सुनिश्चित कराएं। समय-समय में इसकी समीक्षा करें। 

दूसरी से आठवीं तक के बच्‍चों को दी जाएगी राशि 

फिलहाल शिक्षा विभाग की ओर से किताबों की खरीद राशि दूसरी से आठवीं कक्षा के छात्र-छात्राओं को उपलब्ध करायी जाएगी। पहली कक्षा में अभी बच्चों का नामांकन लिया जा रहा है। इसलिए इस माह के अंत तक पहली कक्षा के बच्चों को राशि दी जाएगी। बता दें कि कक्षा 1 से 4 तक बच्चों कुल संख्या 75 लाख 80 हजार 384 है। प्रत्येक बच्चे के खाते में ढाई सौ रुपये ट्रांसफर हांगे। कक्षा 5 से 8 तक बच्चों की संख्या 53 लाख 36 हजार 298 है जिन बच्चों को चार5चार सौ रुपये दिए जाएंगे।