कोलकाता पुलिस नाइट ड्यूटी पर तैनात कर्मियों की करेगी निगरानी, नियंत्रण कक्ष से पूरी होगी गतिविधि

कोलकाता पुलिस ने रात की ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मियों की कथित अवैध गतिविधियों को रोकने के प्रयास में कोलकाता पुलिस मुख्यालय लालबाजार के केंद्रीय नियंत्रण कक्ष से गश्ती वैन और नाइट ड्यूटी पर तैनात कर्मियों की गतिविधियों पर नजर रखने का फैसला किया है।

एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया- हमें कई शिकायतें मिली हैं कि रात में ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मी रात में चलने वाले वाहनों से रिश्वत लेते हैं। वे खुली सड़कों पर माल ले जाने वाले ट्रकों या मैटाडोर से रिश्वत लेते हैं। यह न केवल कर्तव्य की लापरवाही है, बल्कि इससे शहर में हथियार और ड्रग्स जैसी अवैध चीजों के प्रवेश की संभावना बढ़ जाती है।

इस पर विचार कर, जिसे कोलकाता के पुलिस आयुक्त सौमेन मित्रा के दिमाग की उपज माना जाता है, शहर की पुलिस ने इस प्रकार की घटनाओं पर अंकुश लगाने का फैसला किया है। हाल ही में एक निर्देश में नाइट ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मियों को केवल उन जंक्शनों और बिंदुओं पर खुद को तैनात करने के लिए कहा गया है जहां सीसीटीवी लगाए गए हैं ताकि नियंत्रण कक्ष से उनकी पूरी गतिविधियों की निगरानी की जा सके।

अधिकारी ने बताया- हमने इसके लिए एक अलग नियंत्रण कक्ष विकसित किया है जहां वरिष्ठ अधिकारी रात भर ड्यूटी पर रहेंगे। वे सड़क पर पुलिस कर्मियों की गतिविधियों पर कड़ी नजर रखेंगे। यदि कोई विकास होता है, तो वे सीधे निर्देश देंगे इससे न केवल ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मियों पर निगरानी रखने में मदद मिलेगी बल्कि साथ ही अपडेट रहने में भी मदद मिलेगी।

अधिकारी ने कहा कि इस परियोजना को वर्तमान में लालबाजार से सटे शहर के कुछ क्षेत्रों में पायलट आधार पर शुरू किया जाएगा जो मध्य कोलकाता में है। इसकी निगरानी दो वरिष्ठ अधिकारी संयुक्त आयुक्त (मुख्यालय) और संयुक्त आयुक्त (यातायात) करेंगे।

अधिकारी ने कहा, हाल ही में कुछ ऐसी घटनाएं हुई हैं, जहां पुलिस द्वारा मौके पर पहुंचने में देरी हुई और इससे समस्या बढ़ गई। इससे कर्मियों को बिना किसी देरी के मौके पर पहुंचने में भी मदद मिलेगी।