मिशन त्रिपुरा : तृणमूल कार्यकर्ताओं पर हमले के बाद एक हफ्ते के भीतर आज दूसरी बार त्रिपुरा के दौरे पर जा रहे अभिषेक बनर्जी

भाजपा शासित त्रिपुरा में 2023 में होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर राजनीति गर्म है। बंगाल में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) ने एक बार फिर दावा किया कि त्रिपुरा में उसके कार्यकर्ताओं पर हमला किया गया जिसमें कई पार्टी कार्यकर्ता घायल हो गए। हमले का आरोप भाजपा पर लगाया गया है। वहीं, इस घटना को लेकर तृणमूल कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव व सांसद अभिषेक बनर्जी ने भाजपा पर करारा हमला बोलते हुए कहा कि त्रिपुरा में गुंडाराज चल रहा है। उन्होंने ट्विटर पर हमले में कथित तौर पर घायल टीएमसी कार्यकर्ताओं की तस्वीर भी साझा किया है।

अभिषेक ने लिखा- त्रिपुरा में भाजपा के गुंडों ने अपना असली रंग दिखा दिया। तृणमूल कार्यकर्ताओं पर इस बर्बर हमले से भाजपा की बिप्लब देव सरकार के शासन में वहां गुंडाराज का पता चलता है। उन्होंने कहा कि आप की धमकियां और हमले ही आपकी अमानवीयता को साबित करता है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक में आगे चेतावनी देते हुए कहा कि आपको जो करना है करें, तृणमूल इस प्रकार के हम लोग से एक इंच भी नहीं हिलेगी। इसके बाद देर रात अभिषेक ने ट्वीट कर जानकारी दी कि इस घटना के प्रतिवाद में रविवार को वे फिर त्रिपुरा के दौरे पर जाएंगे। उन्होंने लिखा- मैं त्रिपुरा आ रहा हूं, हर उस तृणमूल कार्यकर्ता के साथ खड़े होने के लिए जिनपर भाजपा के गुंडों ने बेरहमी से हमला किया है। यह मेरा वादा है कि मैं अपने खून की आखिरी बूंद तक लड़ाई जारी रखूंगा। अगर बिप्लब देव रोक सकते हैं तो मुझे रोकें! बता दें कि एक सप्ताह में अभिषेक का यह दूसरी बार त्रिपुरा का दौरा होगा।

तृणमूल का दावा, हमले में पार्टी के तीन कार्यकर्ता बुरी तरह घायल

इधर, तृणमूल की ओर से कहा गया है कि हमले में उसके तीन नेता/कार्यकर्ता देवांशु भट्टाचार्य, जया दत्ता और सुदीप राय बुरी तरह घायल हो गए हैं। पार्टी का कहना है कि जब ये लोग सांगठनिक बैठक के सिलसिले में जा रहे थे तो उनकी गाड़ी को रोक कर भाजपा कार्यकर्ताओं ने ईट-पत्थर से उन पर हमला किया। इसमें गाड़ी को भी भारी नुकसान पहुंचा है। वहीं, तृणमूल कांग्रेस के प्रवक्ता कुणाल घोष ने भी इसकी निंदा करते हुए हमले को सोची समझी साजिश करार दिया।

गौरतलब है कि हाल में त्रिपुरा के दौरे पर गए अभिषेक बनर्जी के काफिले पर भी कथित तौर पर हमला किया गया था जिसको लेकर तृणमूल लगातार हमलावर है। अब इस घटना के बाद राजनीति और गरमा गई है। बताते चलें कि बंगाल चुनाव में प्रचंड जीत के बाद अब तृणमूल की नजर त्रिपुरा पर है।पूर्वोत्तर के इस बांग्ला भाषी राज्य में पार्टी अभी से जनसंपर्क बढ़ाने में जुट गई है।