Independence Day 2021: लाल किले की प्राचीर से पीएम मोदी ने पेश किया देश का इकोनॉमिक विजन, कहीं ये खास बातें


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 75वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर रविवार को देश की इकोनॉमी की हालिया उपलब्धियों का उल्लेख किया। इसके साथ ही देश की प्रगति की राह को लेकर सरकार का विजन भी पेश किया। उन्होंने कहा कि कोविड काल में देश में सबसे ज्यादा विदेशी निवेश आया है। दूसरी ओर, विदेशी मुद्रा भंडार भी अब तक के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया। उन्होंने इस मौके पर देश की आर्थिक तरक्की का खाका पेश करते हुए कहा, ''हमें मिलकर काम करना होगा, Next Generation Infrastructure के लिए। हमें मिलकर काम करना होगा, World Class Manufacturing के लिए। हमें मिलकर काम करना होगा Cutting Edge Innovation के लिए। हमें मिलकर काम करना होगा New Age Technology के लिए।''

पीएम मोदी ने देश में कारोबारी माहौल को लेकर कहा, "हमने देखा है, कोरोना काल में ही हजारों नए स्टार्ट-अप्स बने हैं, सफलता से काम कर रहे हैं। कल के स्टार्ट-अप्स, आज के Unicorn बन रहे हैं। इनकी मार्केट वैल्यू हजारों करोड़ रुपए तकप्रधानमंत्री ने कहा कि विकास के पथ पर आगे बढ़ते हुए भारत को अपनी मैन्यूफैक्चरिंग और एक्सपोर्ट, दोनों को बढ़ाना होगा। उन्होंने कहा, ''भारत को आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चर के साथ ही इंफ्रास्ट्रक्चर निर्माण में होलिस्टिक अप्रोच अपनाने की भी जरूरत है। भारत आने वाले कुछ ही समय में प्रधानमंत्री गतिशक्ति- नेशनल मास्टर प्लान को लॉन्च करने जा रहा है।''

ऊर्जा क्षेत्र के महत्व को रेखांकित करते हुए पीएम मोदी ने कहा, ''भारत की प्रगति के लिए, आत्मनिर्भर भारत बनाने के लिए भारत का Energy Independent होना अनिवार्य है। इसलिए आज भारत को ये संकल्प लेना होगा कि हम आजादी के 100 साल होने से पहले भारत को Energy Independent बनाएंगे।'' ​पहुंच रही है।"

देश के सभी मैन्यूफैक्चर्स से प्रधानमंत्री मोदी ने आह्वान किया, ''आप जो उत्पाद बाहर भेजते हैं वो आपकी कंपनी में बनाया हुआ सिर्फ एक उत्पाद नहीं होता। उसके साथ भारत की पहचान जुड़ी होती है, प्रतिष्ठा जुड़ी होती है, भारत के कोटि-कोटि लोगों का विश्वास जुड़ा होता है। आपका हर एक प्रॉडक्ट भारत का ब्रैंड एंबेसेडर है। जब तक वो प्रॉडक्ट इस्तेमाल में लाया जाता रहेगा, उसे खरीदने वाला कहेगा - हां ये मेड इन इंडिया है।''