Corona in Bengal: बुजुर्गों को नहीं मिल रही वैक्सीन की दूसरी खुराक, 58 दिन पहले बुजुर्गों को मिली है पहली खुराक

अस्पतालों में वैक्सीन की किल्लत होने की वजह से अस्‍पताल में सुबह से ही लंबी कतारें लग जा रही हैं। इनमें अधिकतर संख्‍या बुजुर्गों का ही है। आरोप है कि सुबह से लंबी कतार में खड़े रहने के बावजूद बुजुर्गों को वैक्सीन लिए बगैर निराश होकर वापस लौटना पड़ रहा है। यहां तक कि दो महीने बीतने के बावजूद कुछ बुजुर्गों को वैक्सीन की दूसरी खुराक अभी तक नहीं मिल पा रही है।

इस बात से नाराज आक्रोशित बुजुर्गों ने प्रदर्शन भी किया है। शनिवार यह दृश्य अलीपुरदुआर जिले के कालचीनी ब्लॉक स्थित उत्तर लताबाड़ी ग्रामीण अस्पताल में देखने को मिली। जहां तड़के 4:00 बजे से ही वैक्सीन लेने के लिए बुजुर्गों की लंबी लाइन लगी हुई थी। सुबह के 10:00 बजे तक उस लाइन में बुजुर्गों की संख्‍या लगभग 250 से 300 तक पहुंच गई थी। लाइन में किसी प्रकार का शारीरिक दूरी भी नहीं था।

कार्यालय खुलने के बाद बुजुर्गों को कहा गया कि स्टॉक में केवल 110 लोगों के लिए ही वैक्सीन पर्याप्त है। यह सुनकर लाइन में खड़े काफी बुजुर्ग वापस लौट गए और काफी भड़ककर प्रदर्शन करने लगे। घटना की जानकारी पाकर कालचीनी के बीडीओ प्रशांत बर्मन व वकालचीनी थाने की पुलिस अधिकारी भी मौके पर पहुंच कर मामले को शांत किया। बुजुर्गों ने आरोप लगाया कि वैक्सीन की पहली खुराक लगने के 57 दिन या 58 दिन बीत गये हैं लेकिन अभी तक दुसरी खुराक भी नहीं लग रही है। स्टॉक में वैक्सीन ना होने के कारण रोजाना लाइन में खड़े रहने के बाद वापस हो जाना पड़ता है।