'पाक से हुई जंग तो क्या राज्य अपने-अपने टैंक खरीद कर लड़ेंगे' वैक्सीन की कमी को लेकर केजरीवाल का केंद्र पर तंज

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल बुधवार की शाम को एक डिजिटल प्रेसवार्ता करेंगे। इसकी जानकारी आम आदमी पार्टी के ट्विटर हैंडिल से फ्लैश की गई है। कोरोना के बीच ऐसी संभावना है कि कोरोना को लेकर कोई बड़ा एलान कर सकते हैं। बता दें कि दिल्ली में कोरोना के मामले अब पहले के मुकाबले काफी कम हुए हैं, हालांकि सरकार अभी भी पूरी तरह अलर्ट है जिसके कारण लॉकडाउन और अन्य बंदिशें लगा कर संक्रमण दर को कम करने की कवायद जारी है।

दिल्ली में वैक्सीन खत्म हो चुकी है

सीएम ने अपने पीसी में कहा कि दिल्ली में वैक्सीन खत्म हो चुकी है। पिछले चार दिनों से 18 साल से 44 साल वालों के लिए वैक्सीन नहीं है। सेंटर बंद हो रहे हैं। यह हालात सही नहीं है। ऐसे में खतरा बढ़ने की संभावना है। उन्होंने आगे बताया कि यह सिर्फ दिल्ली के हालात नहीं है पूरे देश में यही हाल है। जब हमें नए सेंटर खोलने चाहिए थे तब हम पुरानों को भी बंद कर रहे हैं क्योंकि वैक्सीन की कमी हो रही है। यह सही नहीं है।

वैक्सीन विदेश भेजने पर सवाल

सीएम ने कहा कि कोरोना की दूसरी वेब बहुत घातक साबित हुई है। देश भर में न जाने कितने ही परिवार बर्बाद हो गए। हम इसे रोक सकते थे, लेकिन देश ने छह माह खराब कर दिए। कोरोना से बचाव के लिए जो वैक्सीनेशन हमें छह माह पहले शुरू कर देना चाहिए था, हम अब कर रहे हैं। सबसे पहली वैक्सीन भारत के वैज्ञानिकों ने बनाई, लेकिन हम अपने यहां वैक्सीनेशन शुरू करने के बजाए दूसरे देशों को वैक्सीन भेजने में लग गए।

दो माह से वैक्सीन के लिए लगे हुए हैं

जो वैक्सीन केंद्र सरकार को उपलब्ध करानी चाहिए थी, उसके लिए राज्यों को कह दिया गया कि वे अपने स्तर पर व्यवस्था कर लें। दो माह से सभी राज्य वैक्सीन का जुगाड़ करने में लगे हुए हैं, लेकिन काेई कामयाब नहीं हो पाया। ग्लोबल टेंडर भी सभी फेल हो गए।

भारत पाकिस्तान में जंग हो तो सभी राज्य अपने टैंक खरीद कर लड़ेंगे

आज अगर पाकिस्तान भारत पर आक्रमण कर दे तो केंद्र सरकार यह नहीं कह सकती कि सभी राज्य अपने अपने टैंक खरीद लें। अगर पाकिस्तान जीता तो भाजपा नहीं, देश हारेगा। इसी तरह कोरोना से जंग में भी भाजपा, आम आदमी पार्टी या शिवसेना नहीं बल्कि देश ही हारेगा। यह समय एकजुट होकर काम करने का है। जो काम केंद्र सरकार का है, वह उसे करना ही पड़ेगा। राज्यों को जो जिम्मेदारी दी जाएगी, वह भी निभाएंगे। मैं प्रधानमंत्री जी से अनुरोध करना चाहता हूं कि केंद्र सरकार राज्यों को वैैक्सीन मुहैया कराए। वैक्सीन लगाना फिर राज्यों की जिम्मेदारी है।

क्या है दिल्ली का ताजा हाल

दिल्ली में ताजा हालात की बात करें तो यहां कोरोना के नए संक्रमित मरीज 1500 के आसपास मिले। एक वक्त था जब यह संख्या हर दिल्लीवासियों को डरा रही थी। बीते 24 घंटे की बात की जाए तो 1491 नए मरीज मिले हैं। वहीं मृतकों की संख्या अभी भी चिंताजनक स्तर पर है। करीब 130 लोग इस बीमारी के कारण जान से हाथ धो बैठे हैं। संक्रमण दर पिछले दिनों के मुकाबले लगातार कम हो रहा है अब यह दो प्रतिशत के आसपास पहुंच गया है। यह पिछले दो महीने में सबसे कम दर है।