West Bengal Assembly Election 2021: विधानसभा चुनाव के पांचवें चरण से पहले बंगाल के रण में उतर सकते हैं राहुल गांधी

बंगाल विधानसभा चुनाव में तीन चरणों का मतदान खत्म हो चुका है और शनिवार को चौथे चरण के लिए वोटिंग होनी है। गुरुवार शाम इस चरण के लिए भी चुनाव प्रचार थम गया है। परंतु, बंगाल में अब तक कांग्रेस के एक भी बड़े नेता चुनाव प्रचार के लिए नहीं आए। खबर आ रही है कि पांचवें चरण में प्रचार के लिए कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी बंगाल आ सकते हैं। 6 अप्रैल को बंगाल को छोड़कर बाकी चार राज्यों में विधानसभा चुनाव खत्म हो चुका है। 10 अप्रैल को बंगाल की 44 विधानसभा सीटों पर चौथे चरण का मतदान है।

प्रदेश कांग्रेस के नेताओं से पता चला है कि राहुल गांधी पांचवें चरण से बंगाल में चुनाव प्रचार शुरू करेंगे। उनकी पहली सभा मालदा और मुर्शिदाबाद या सिलीगुड़ी में हो सकती है। राहुल गांधी अभी तक केरल, तमिलनाडु और असम में चुनाव प्रचार किए थे, लेकिन बंगाल एक बार भी नहीं आए। यहां तक कि ना ही प्रियंका गांधी और ना ही अन्य शीर्ष कांग्रेसी नेता प्रचार के लिए बंगाल पहुंचे। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अधीर चौधरी वाममोर्चा और इंडियन सेक्युलर फ्रंट के नेताओं के साथ मिलकर चुनाव प्रचार कर रहे हैं।

वहीं दूसरी ओर भाजपा ने बंगाल में अपनी पूरी ताकत झोंक रखी है। पीएम नरेंद्र मोदी से लेकर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह बार-बार बंगाल दौरे पर आ रहे हैं और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर लगातार हमले बोल रहे हैं। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता का कहना है, यह तो मुमकिन नहीं है कि पूरी भाजपा बंगाल में डेरा डाले रहे लेकिन पांचों चरण के मतदान के दौरान कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल घर बैठे रहें। इसलिए तय मानें कि राहुल आखिरकार बंगाल दौरे पर जाएंगे ही।

असल में ऐसे कई राजनीतिक मजबूरी है जिन पर उठने वाले सवालों से बचने के लिए राहुल बंगाल दौरे से बचते रहे हैं। एक ओर जहां वाम दलों के साथ बंगाल में मिलकर कांग्रेस चुनाव लड़ रही है और वहीं केरल में मुख्य विरोधी है। ऐसे में वह दोहरे माप दंड वाले मजबूरी से बचने के लिए अभी तक बंगाल में चुनाव प्रचार से बचते रहे हैं।