हर हाल में घर के बजाय अस्पताल में प्रसव कराने को प्राथमिकता दें ताकि जच्चा बच्चा सुरक्षित रहे: डीएम


डीएम ने इमामगंज तथा डुमरिया प्रखंड का किया औचक निरीक्षण
 
सूरज कुमार

गया. डीएम अभिषेक सिंह द्वारा गुरुवार को इमामगंज तथा डुमरिया प्रखंड का सघन भ्रमण करते हुए सरकार की जनसरोकार से जुड़ी हुई योजनाओं/कार्यक्रमों का निरीक्षण किया तथा आम जनों/जनप्रतिनिधियों से मिलकर उनकी शिकायतों/समस्याओं के निष्पादन का निदेश सम्बंधित पदाधिकारियों को दिया. डीएम ने ज़िले के सुदूरवर्ती डुमरिया प्रखंड पहुँचकर सर्वप्रथम प्रखंड एवं अंचल कार्यालय का औचक निरीक्षण किया. उन्होंने आधार कार्ड काउंटर तथा आरटीपीएस काउन्टर का निरीक्षण करते हुए आम लोगों से प्रमाण पत्र बनाने/आधार कार्ड बनवाने में किसी प्रकार की समस्या की जानकारी प्राप्त किया. उन्होंने निदेश दिया कि आधार कार्ड काउंटर के नज़दीक इस आशय की सूचना मोटे अक्षरों में प्रदर्शित करावे कि प्रथम बार आधार कार्ड बनाने में किसी प्रकार का शुल्क नहीं लिया जाता है. डीएम ने प्रखंड/अंचल कार्यालय के कर्मियों का उपस्थिति पंजी का निरीक्षण किया.बीडीओ, डुमरिया ने बताया कि उनके यहां कोई भी कर्मी हड़ताल पर नहीं है. वहीं अंचल कार्यालय में 2 कर्मी हड़ताल पर पाए गए. डीएम द्वारा कैश बुक के निरीक्षण के क्रम में बीडीओ को निर्देश दिया कि कैश बुक में जो भी अव्यवृत राशि हैं, उन्हें 31 मार्च तक जमा करते हुए सम्बंधित योजना का बैंक खाता बन्द करें तथा बैंक से स्टेटमेंट प्राप्त करें.

उन्होंने डुमरिया प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का निरीक्षण करते हुए कहा की 2 वर्ष पहले और अब मे प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के कार्य संस्कृति, स्वच्छता में उल्लेखनीय बदलाव आया है. उन्होंने प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी की प्रसंशा करते हुए कहा की वे मुख्यालय में रहकर लोगों का इलाज कर रहे हैं. उन्होंने दवा वितरण, एक्स-रे मशीन का रखरखाव तथा मरीज़ों की जांच करने, ओपीडी में मरीज़ों का इलाज करने, प्रसव सुविधा की जानकारी प्राप्त किया. उन्होंने निर्देश दिया कि  प्रसव कार्य अस्पताल में ही करने हेतु लोगों को प्रेरित करें. हर हाल में घर के बजाय अस्पताल में प्रसव कराने को प्राथमिकता दें ताकि जच्चा बच्चा सुरक्षित रहे. 

उन्होंने चिकित्सक के आवास के निर्माण हेतु भूमि का निरीक्षण करते हुए कहा की शीघ्र ही चिकित्सकों के लिए आवास का निर्माण प्रारम्भ किया जाएगा. डीएम द्वारा डुमरिया प्रखंड के सेवरा पंचायत की विभिन्न गाँवो में जाकर लोगों से ग्रामीण पेयजल योजना, राशन कार्ड, अनाज की आपूर्ति इत्यादि के संबंध में जानकारी प्राप्त किया. उन्होंने सेवरा पंचायत अंतर्गत कसियाडीह जाकर वार्ड 13 में नल जल योजना की स्थिति के संबंध में ग्रामीणों से जानकारी प्राप्त किया. ग्रामीणों एवं सेवरा पंचायत के मुखिया द्वारा बताया गया की 262 घर वाले गांव में जलापूर्ति हो रही है, मोटर जल जाने के कारण जलापूर्ति में कुछ व्यवधान हुआ था परंतु मोटर उपलब्ध हो जाने से अब कोई समस्या नहीं है. 


डीएम द्वारा डुमरिया प्रखंड के निकट सांसद निधि से निर्माणाधीन सभागार का निरीक्षण किया. उन्होंने संवेदक को निर्देश दिया कि उक्त सभागार में पानी का जमाव न हो इसे सुनिश्चित करें. डीएम द्वारा इमामगंज प्रखंड के नवनिर्मित प्रखंड एवं अंचल कार्यालय में डीएम ने पंचायत के जनप्रतिनिधियों के साथ बैठक करते हुए उनके क्षेत्र की समस्याओं के संबंध में जानकारी प्राप्त किया. जनप्रतिनिधियों द्वारा डुमरिया में बस स्टैंड तथा +2 विद्यालय के निर्माण संबंधी अनुरोध किया, साथ ही एक बड़ा अस्पताल बनाने का भी अनुरोध किया. जनप्रतिनिधियों द्वारा पंचायत सरकार भवन, पंचायतों में उप स्वास्थ्य केंद्र का निर्माण, नल जल योजना, राशन कार्ड की समस्या, ग्रामीण सड़क का निर्माण, सरकारी चापाकल की मरम्मती, सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना की मांग सहित अन्य समस्याओं के बारे में बताया गया. इमामगंज प्रखंड के बिकोपुर पंचायत में स्वास्थ्य उप केंद्र का निर्माण, महादलित टोले में बिजली का कनेक्शन देने तथा उच्च विद्यालय का निर्माण कराने का अनुरोध किया गया. वहीं डुमरिया प्रखंड के नंदई पंचायत में आरसीसी पूल की आवश्कता, सड़क निर्माण, पईन खुदाई का अनुरोध किया गया. डुमरिया प्रखंड के चककरबंधा पंचायत में उच्च विद्यालय के निर्माण कार्य अधूरा होने की बात बताई गई. डुमरिया प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में और अधिक चिकित्सकों की पदस्थापना का अनुरोध किया गया. 

डीएम ने पंचायत जनप्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए कहा कि पंचायत जनप्रतिनिधियों की वित्तीय शक्ति में काफी इजाफा हुआ है. उन्होंने कहा कि आप पर पंचायत स्तरीय योजना के अनुश्रवण की भी ज़िम्मेदारी है ताकि विकास कार्य तेजी से हो सके. उन्होंने बताया कि जनप्रतिनिधियों के लिए तथा आम जनों के लिए लोक शिकायत निवारण अधिकार अधिनियम एक महत्वपूर्ण अधिकार है जिसके माध्यम से आप तथा आम जन अपनी शिकायतों का निष्पादन करा सकते हैं. आप की शिकायतों को सुनने के लिए वरीय पदाधिकारी की नियुक्ति सरकार द्वारा की गई है. उन्होंने जन प्रतिनिधियों से कहा कि लोगों के पास यह संदेश जाना जरूरी है कि सरकार तथा जिला प्रशासन विकास कार्यों तथा आमजनों की सुविधा का ख्याल करने हेतु काफी तत्पर है. लोकतंत्र में हिंसा का कोई स्थान नहीं है, जो असामाजिक तत्व हैं अथवा समाज की मुख्य धारा से कटे हुए हैं, उनसे अपील है की वे अपने क्षेत्र की विकास योजनाओं यथा शिक्षा, स्वास्थ्य, सड़क, बिजली इत्यादि के लिए आगे आए.उन्होंने स्पष्ट लहजे में कहा कि अगर आप शांति का मार्ग चुनकर समाज की मुख्य धारा में शामिल होते हैं तो सरकार तथा ज़िला प्रशासन आपके साथ है वरना सरकार तथा ज़िला प्रशासन आपसे निपटने में पूरी तरह सक्षम है.

उन्होंने लोगो से अपील किया कि जहां शौचालय बन गया है उसका उपयोग अवश्य करें. उन्होंने बताया कि जिनके पास शौचालय हेतु भूमि नहीं है उनके लिए सामुदायिक शौचालय का निर्माण कराया जा रहा है. शौचालय का उपयोग आपके परिवार, ज़िला, राज्य एवं राष्ट्र की सम्मान से जुड़ा है. डीएम द्वारा जनप्रतिनिधियों द्वारा उठाई गयी समस्या तथा दोनों प्रखंडों की योजनाओं की जांच में गये पदाधिकारियों तथा अभियन्ताओं से फीडबैक लिया गया. बैठक में डीडीसी सुमन कुमार, अपर समाहर्त्ता, अपर समाहर्ता (लोक शिकायत), सिविल सर्जन, ज़िला पंचायत राज पदाधिकारी, ज़िला जन सम्पर्क पदाधिकारी, निदेशक, डीआरडीए, अनुमंडल पदाधिकारी, ज़िला आपूर्ति पदाधिकारी, कार्यपालक अभियंता, लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण प्रमंडल, पथ निर्माण विभाग, भवन निर्माण, वरीय उप समाहर्त्तागण, विशेष कार्य पदाधिकारी, प्रखंड विकास पदाधिकारी, अंचलाधिकारी, प्रखंड स्तरीय पदाधिकारी सहित अन्य पदाधिकारी तथा प्रखंड स्तरीय पदाधिकारी उपस्थित थे.