पहाड़ों से गिरने वाले पानी का संग्रहण करेगी राज्‍य सरकार, सिंचाई के लिए किया जाएगा इस्‍तेमाल

बिहार के लघु जल संसाधन सह कल्याण मंत्री (Minister of Minor Irrigation and SC-ST Welfare) संतोष मांझी ने कहा कि वर्ष 2025 तक राज्य के हर जिले के हर प्रखंड के किसानों के खेतों तक सिंचाई के लिए पानी पहुंचाया जाएगा।  इस लक्ष्य को लेकर राज्य सरकार ने वृहत कार्ययोजना बनाई है। लघु जल संसाधन विभाग ने भी हर खेत को पानी और जल संचयन को लेकर कार्ययोजना बनाई गई है। पहाड़ों से गिरने वाले पानी को सहेजकर जमा करने और उससे सिंचाई की सुविधा उपलब्ध कराने पर काम किया जा रहा है। उनकी प्राथमिकता है कि खेती में किसानों को हर संभव सुविधाएं मिलें ताकि हमारा राज्‍य कृषि के खेत्र में अग्रणी हो सके।

आंबेडकर आवासीय विद्यालय का मंत्री ने लिया जायजा

मंत्री एक निजी कार्यक्रम में शिरकत करने शनिवार को औरंगाबाद पहुंचे थे। कार्यक्रम के बाद जिला मुख्यालय स्थित आंबेडकर आवासीय बालिका प्लस टू विद्यालय का उन्‍होंने निरीक्षण किया। छात्राओं से बात की। उनसे वहां मिलने वाली सुविधाओं की जानकारी ली। रसोईघर और छात्राओं के रहने की व्यवस्था को देखा। इसके पहले भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष कृष्णबल्लभ प्रसाद सिंह उर्फ बबुआजी के आवास पर मांझी ने प्रेसवार्ता की।

बंद नलकूपों को कराया जा रहा चालू

मंत्री ने कहा कि हर खेत तक सिंचाई की सुविधा उपलब्ध कराने को लेकर राज्य में बंद पड़े नलकूपों को चालू कराया जा रहा है। जल जीवन हरियाली अभियान के तहत आहर, पोखर, कुआं, पइन समेत अन्य जलस्रोतों का जीर्णोद्धार कराया जा रहा है। सार्वजनिक जलस्रोतों से अतिक्रमण हटाया जा रहा है। इस दिशा में तेजी से काम चल रहा है। मंत्री ने कहा कि सरकार हर क्षेत्र के विकास में लगी है। इस क्रम में खेती-किसानी को प्राथमिकता दी जा रही है। मौके पर हम नेता श्रवण भुइंया, सुनील चौबे, अमरेंद्र तिवारी, मनोज परमार, भीम कुमार ङ्क्षसह समेत एनडीए के कई नेता मौजूद रहे।

ADVERTISEMENT