NHAI प्रोजेक्ट्स में देरी पर भड़के गडकरी, बोले- नाकाबिल अफसरों को बर्खास्त करना जरूरी


केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी बुधवार को हुए एक वर्चुअल कार्यक्रम में भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण ( NHAI) में काम की सुस्त रफ्तार पर भड़क गए. नितिन गडकरी ने कहा कि 'नॉन परफार्मिंग एसेट्स' को बाहर का रास्ता दिखाने का समय है. केंद्रीय मंत्री गडकरी द्वारका में एनएचएआई भवन के उद्घाटन के दौरान सभा को संबोधित कर रहे थे. इस दौरान वो बेहद नाराज दिखे. गडकरी की नाराजगी इस बात पर थी कि एनएचएआई भवन को पूरा होने में लगभग नौ साल लग गए.

नितिन गडकरी ने कहा कि एनएचएआई अकुशल अधिकारियों की जगह बन गया है, जो बाधा पैदा कर रहे हैं और हर केस कमेटियों को रेफर कर रहे हैं. उन्हें निलंबित और उनकी सेवा को समाप्त करने का समय आ गया है और एनएचएआई के कामकाज में सुधार लाया जाए. 

कार्यक्रम में नितिन गडकरी ने कहा कि अधिकारी फैसले लेने में देरी कर रहे हैं और जटिलताएं पैदा कर रहे हैं. सीजीएम (चीफ जनरल मैनेजर) और जीएम (जनरल मैनेजर) वर्षों से बैठे हैं. व्यंग्यपूर्ण टिप्पणी करते हुए गडकरी ने एनएचएआई के चेयरमैन से कहा कि परियोजना को पूरा करने में हुई देरी में उनके योगदान के लिए उनकी तस्वीरों को एनएचएआई भवन में लगाएं.

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि भवन परियोजना की अवधारणा 2008 में की गई थी. 2011 में टेंडर दिया गया था. भवन को पूरा करने में लगभग नौ साल लगे और इस दौरान एनएचएआई के सात चेयरमैन आए और दो सरकारें भी बनीं. आखिरकार इसे आठवें चेयरमैन (एसएस संधू) के कार्यकाल के दौरान पूरा किया जा सका.

कार्यक्रम में नितिन गडकरी ने कहा कि वे एनएचएआई में व्यापक सुधारों पर जोर दे रहे हैं, लेकिन अब तक कोई फायदा नहीं हुआ. उन्होंने कहा कि जब दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे को तीन साल के भीतर पूरा करने की योजना है, तो एक भवन को पूरा होने में दस साल कैसे लग गए. 

अधिकारियों पर नितिन गडकरी का गुस्सा जारी रहा.  उन्होंने कहा कि मुझे शर्म आती है ... मैंने इसके लिए व्यक्तिगत रूप से तीन-चार बैठकें की थीं ... मैं सुधारों पर जोर देता रहा हूं ... अब जैसा कि परंपरा है, अकेले ठेकेदारों को दोषी ठहराने के लिए रिकॉर्ड तैयार किए जाएंगे. उन्होंने अधिकारियों को संभलने की चेतावनी दी. बता दें कि NHAI की नई इमारत दिल्ली के द्वारका में बनी है. ये NHAI के मौजूदा परिसर के बगल में ही है. नए भवन का निर्माण 6,086 वर्ग मीटर में किया गया है. 


ADVERTISEMENT