चिराग के अरमानों को नीतीश ने ऐसे एक फूंक से बुझाया, BJP-JDU ने दिए सख्त संदेश

बिहार विधानसभा चुनाव में बीजेपी और जेडीयू ने सीट बंटवारे के साथ एनडीए से अलग होने वाले चिराग पासवान को भी दो टूक संदेश देने का काम किया है. चिराग बिहार में पीएम मोदी के नाम को कैश कराने की कवायद में जुटे थे, जिसे लेकर बीजेपी ने एलजेपी को सख्त लहजे में कह दिया है कि बिहार चुनाव में वो न तो पीएम नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह के नाम का इस्तेमाल करें और न ही प्रचार के बैनर-पोस्टरों में उनकी फोटो लगाएं. वहीं, एनडीए से अलग होकर चिराग बिहार की सियासत में जो रोशनी बिखेरना चाहते थे, उसे नीतीश कुमार ने अपने एक दांव से बुझा दिया है. 

दो नाव पर सवारी, एलजेपी को मंहगी पड़ी

एलजेपी प्रमुख चिराग पासवान एनडीए से अलग होकर चुनावी ताल ठोककर बिहार में दो नाव पर सवारी करना चाहते थे. एलजेपी बिहार में जेडीयू के खिलाफ प्रत्याशी उतारने और दूसरी तरफ बीजेपी का समर्थन कर यह दिखाना चाहती थी कि उसकी सियासी लड़ाई नीतीश कुमार से है न कि बीजेपी से. इस तरह जेडीयू वाली सीटों पर बीजेपी के वोटों को एलजेपी कैश कराना चाहती थी. 

बीजेपी ने साफ तौर पर कह दिया है कि उसका गठबंधन जेडीयू के साथ है और एनडीए में वही रहेगा जो नीतीश कुमार के नेतृत्व को स्वीकार करेगा. बिहार में सिर्फ चार दलों का गठबंधन है. भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल ने चिराग पासवान को साफ संदेश देते हुए कहा है कि अगर वह नीतीश कुमार का नेतृत्व नहीं स्वीकार करते तो उन्हें एनडीए से भी हटना पड़ेगा. इस तरह से चिराग बिहार में खुद को एनडीए का हिस्सा नहीं बता पाएंगे. 

मोदी के नाम के इस्तेमाल पर ग्रहण

चिराग पासवान बिहार की सियासी जंग में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम और काम से जीत हासिल करना चाहते थे. उन्होंने बकायदा 'मोदीजी से बैर नहीं, नीतीश कुमार की खैर नहीं' का नारा भी दिया था. इसके अलावा वह नरेंद्र मोदी और अमित शाह की तस्वीर का भी अपने चुनावी प्रचार में इस्तेमाल करना चाहते थे, पर बीजेपी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में साफ कर दिया कि वो ऐसा नहीं होने देगी. सुशील मोदी और संजय जायसवाल ने कहा कि जरूरत पड़ी तो हम चुनाव आयोग भी जाएंगे और बिहार में एनडीए में शामिल जो पार्टियां मिलकर चुनाव लड़ रही हैं उसके अलावा कोई और पीएम मोदी के नाम का इस्तेमाल नहीं कर पाएगा. एक तरह से साफ है कि नरेंद्र मोदी के नाम पर एलजेपी वोट नहीं मांग पाएगी. 

सीट शेयरिंग में चिराग का हाथ खाली

एनडीए में सीट शेयरिंग का बंटवारा हो गया है. बीजेपी 121 और जेडीयू 122 सीटें मिली है. जेडीयू अपने कोटे से जीतनराम मांझी के सात सीटें दे रही है जबकि बीजेपी मुकेश साहनी की वीआईपी को सीटें देगी. वहीं, पहले माना जा रहा था कि एलजेपी भले ही एनडीए से अलग हो गई हो, लेकिन बीजेपी अपने कोटे से कुछ सीटें दे सकती है. हालांकि, मंगलवार को बीजेपी ने साफ कर दिया है कि एलजेपी को अब अकेले ही चुनावी मैदान में उतरना होगा.

बीजेपी बिहार में उसे न तो अपने कोटे से सीटें देगी और न ही कुछ सीटों पर सहयोग करेगी. वहीं, बीजेपी नेताओं के एलजेपी में शामिल होने के सवाल पर भूपेंद्र यादव ने कहा कि हमारी पार्टी के संविधान में स्पष्ट लिखा है कि अगर कोई व्यक्ति बीजेपी के खिलाफ चुनाव लड़ता है तो वह पार्टी का सदस्य नहीं रहेगा. बीजेपी बिहार में नीतीश कुमार के नेतृत्व में चुनाव लड़ रही है, ऐसे में हमारा कोई नेता जेडीयू के खिलाफ चुनाव लड़ता है तो पार्टी उस पर कार्रवाई करेगी.

पासवान पर नीतीश ने जताया एहसान

एलजेपी के जेडीयू के खिलाफ चुनावी रण में उतरने के फैसले पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार को चिराग पासवान पर जमकर निशाना साधा है. नीतीश कुमार ने कहा के अध्यक्ष चिराग पासवान पर पलटवार करते हुए कहा कि केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान से हमारा बहुत पुराना लगाव है. साथ ही यह भी कहा कि रामविलास पासवान राज्यसभा पहुंचे हैं, तो क्या वो बिना जदयू की मदद के पहुंचे हैं. नीतीश कुमार ने कहा कि एलजेपी बताए, पार्टी को बिहार विधानसभा में कितनी सीटें मिली है. जब विधानसभा में उन्हें दो सीटें ही मिली हैं, ऐसे में जेडीयू और बीजेपी ने ही रामविलास पासवान को टिकट देकर राज्यसभा पहुंचाया. इस तरह से नीतीश ने पासवान को राज्यसभा भेजने को लेकर एहसान भी याद दिला दिया है. 

नीतीश के CM दावेदार की कुर्सी पर लगी मुहर

चिराग पासवान लगातार यह बताने की कोशिश कर रहे हैं कि चुनाव के बाद बीजेपी और एलजेपी मिलकर सरकार बनाने का काम करेगी. ऐसे में कन्फ्यूजन हो रहा था कि चुनाव बाद ज्यादा सीटें आने पर क्या बीजेपी नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री बनाएगी या खुद दावा करेगी. इस पर उपमुख्यमंत्री व बीजेपी के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी ने साफ कर दिया कि नीतीश कुमार ही एनडीए के मुख्यमंत्री का चेहरा हैं. 

वहीं बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल और बिहार प्रभारी भूपेंद्र यादव ने दो टूक अंदाज में कहा कि जो बिहार में नीतीश कुमार को सीएम नहीं मानेगा वह एनडीए का हिस्सा नहीं होगा. बीजेपी नेताओं ने स्पष्ट तौर पर कह दिया है कि चुनाव में चाहे सीटें किसी की भी ज्यादा आएं, लेकिन अगर एनडीए सरकार बनाती है तो नीतीश कुमार ही मुख्यमंत्री बनेंगे. इसमें कोई किंतु-परंतु का सवाल ही नहीं है. ऐसे में नीतीश कुमार ने चुनाव के बाद ही तस्वीर को पहले ही साफ कर लिया है, जो चिराग के लिए एक झटका माना जा रहा है. 

चिराग के सिर फूटा ठीकरा

नीतीश कुमार के नेतृत्व वाले एनडीए से एलजेपी के अलग होने का ठीकरा बीजेपी ने चिराग पासवान पर फोड़ दिया है. सुशील मोदी ने साफ तौर पर कहा कि रामविलास पासवान केंद्र में मंत्री हैं. वह अभी बीमार हैं, जिसके चलते यह दिन देखना पड़ रहा है. वह स्वस्थ होते तो ऐसा समय नहीं देखना पड़ता. एक तरह से साफ है कि रामविलास पासवान अगर ठीक होते तो एनडीए से एलजेपी न अलग होती यानी एक तरह गठबंधन होने के लिए चिराग पासवान ही जिम्मेदार हैं.


ADVERTISEMENT