कोलकाता के 250 पार्कों में दुर्गापूजा आयोजित की जाती, पार्क नहीं खुलने से पूजा कमेटियां चिंतित


कोरोना काल में महानगर के लगभग 300 से अधिक पार्क बंद हैं। महानगर के लोगों को पार्कों के खुलने का इंतजार तो है ही साथ में पूजा कमेटियां भी चाहती हैं कि जल्द से जल्द पार्कों को खोल दिया जाए। गौरतलब है कि महानगर के लगभग 250 पार्कों में दुर्गापूजा आयोजित की जाती है। पार्क बंद रहने से पूजा कमेटियों की चिंता बढ़ गयी है, क्योंकि अगर पार्क नहींं खुले तो दुर्गा पूजा का आयोजन करना मुश्किल हो जाएगा। हालांकि कोरोना महामारी के कारण राज्य सरकार के निर्देशानुसार कोलकाता नगर निगम ने सभी पार्कों को बंद कर दिया था। पार्क बंद होने के कारण वहां आयोजित होने वाली पूजा भी अनिश्चितता में पड़ी हुई है।

राज्य सरकार से चर्चा के बाद ही खुलेंगे पार्क

इस मुद्दे पर कोलकाता नगर निगम के प्रशासक फिरहाद हकीम का कहना है कि पार्कों को खोले जाने के लिए गृह सचिव अलापन बंद्योपाध्याय से अनुमति मांगी गयी है। इस विषय पर राज्य सरकार से चर्चा करने के बाद ही पार्कों को खोलने का निर्देश दिया जाएगा। उम्मीद जताई जा रही है कि मंगलवार तक महानगर के बड़े पार्कों को खोला जा सकता है अगर अनुमति मिलती है तो। गौरतलब है कि महानगर के सभी पार्क मार्च से बंद कर दिए गए थे। वहीं कुछ पार्क मॉर्निंग वॉक के लिए सुबह कुछ घंटों के लिए खुले रहते हैं।

बड़े पार्कों को निगम की हरी झंडी का इंतजार

महानगर के बड़े पार्क देशप्रिय पार्क, कुम्हारटोली पार्क, हाजरा पार्क, मैडॉक्स स्क्वायर, काशी मित्रा बोस लेन, कस्बा तालबागान, बरिशा सार्वजनिन, बागबाजार पूजा, कॉलेज स्क्वायर पूजा कमेटियां अब तक पूजा पंडाल बनाने के कार्य को शुरू नहीं कर सकी हैं। ऐसे में बस उन्हें कोलकाता नगर निगम की ओर से हरी झंडी मिलने का इंतजार है, ताकि वह पूजा की तैयारियां शुरू कर सकें। 

ADVERTISEMENT