सरकार ने प्याज के निर्यात पर लगाई रोक, देश में 50 रुपये किलो पहुंची कीमत


देश में प्याज की बढ़ती कीमतों के मद्देनजर सरकार ने इसके निर्यात पर पांबदी लगा दी है। डायरेक्ट्ररेट जनरल ऑफ फॉरेन ट्रेड (DGFT) ने एक नोटिफिकेशन में कहा कि सभी तरह के प्याज के निर्यात पर तुरंत पाबंदी लगा दी गई है। इसमें बैंगलूर रोज और कृष्णापुरम प्याज भी शामिल है। अब तक प्याज की इन किस्मों के निर्यात पर कोई पाबंदी नहीं थी।

एक अधिकारी ने कहा कि देश में प्याज की कीमतें बढ़ गई हैं और घरेलू बाजार में इसकी कमी है। यह कमी मौसमी है लेकिन कोविड-19 महामारी के दौरान पिछले कुछ महीनों में प्याज का जमकर निर्यात हुआ है। भारत ने अप्रैल-जून के दौरान 19.8 करोड़ डॉलर के प्याज का निर्यात किया जबकि पिछले पूरे साल 44 करोड़ डॉलर के प्याज का निर्यात हुआ था। भारत से बांग्लादेश, मलेशिया, यूएई और श्रीलंका को प्याज का सबसे अधिक निर्यात होता है।

प्याज की कीमतों में भारी बढ़ोतरी
अभी से महज एक पखवाड़े पहले रीटेल में 15 से 20 रुपये प्रति किलो बिकने वाला प्याज अभी 45 से 50 रुपये किलो बिक रहा है। आलम यह है कि सड़े हुए प्याज भी 25 रुपये किलो बेचे जा रहे हैं। एशिया की सबसे बड़ी सब्जी मंडी, दिल्ली की आजादपुर मंडी में आज प्याज का होलसेल रेट 26 से 37 रुपये किलो रहा। कारोबारियों का कहना है कि इसकी कीमतों में तेजी क पीछे प्याज की फसल का खराब होना है। दरअसल, कर्नाटक में पिछले दिनों हुई भारी बारिश की वजह से प्याज की खड़ी फसल को भारी नुकसान हुआ है।

पिछले साल भी लगाई थी रोक
उल्लेखनीय है कि सितंबर 2019 में सरकार ने प्याज के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया था और प्रति टन प्याज पर 850 डॉलर का एमईपी भी लगा दिया था। तब मांग और आपूर्ति में अंतर होने की वजह से प्याज की कीमतें बहुत ज्यादा बढ़ गई थीं। महाराष्ट्र सहित प्रमुख प्याज उत्पादक राज्यों में बहुत ज्यादा बारिश और बाढ़ के कारण प्याज की कमी थी। एमईपी दर के नीचे किसी वस्तु के निर्यात की अनुमति नहीं होती है।

ADVERTISEMENT