बंगाल: पुलिस कस्टडी में BJP कार्यकर्ता की मौत, कानून व्यवस्था पर उठे सवाल


पश्चिम बंगाल के उत्तरी दिनाजपुर जिले में गुरुवार को भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के एक कार्यकर्ता की पुलिस कस्टडी में मौत हो गई. मृतक का नाम अनूप कुमार रॉय है. अनूप कुमार को बुधवार को गैर-कानूनी गतिविधियों के आरोप में पुलिस ने गिरफ्तार किया था. अनूप कुमार को रायगंज पुलिस थाने में लाने के साथ ही तबीयत बिगड़ गई. तुरंत बाद में उसे अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.

बीजेपी ने अपने कार्यकर्ता की मौत को हत्या बताया और सवाल उठाए गए कि रात में महज 3 घंटे के अंदर ही मृतक का पोस्टमॉर्टम क्यों कर दिया गया. बीजेपी ने बंगाल पुलिस पर अनूप कुमार को प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है. बंगाल बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा कि पुलिस के ऐसे अत्याचार के बारे में कोई सोच भी नहीं सकता है. बंगाल की कानून व्यवस्था कहां जा रही है? 

मृतक अनूप कुमार रॉय की मां ने पुलिस को एक पत्र लिखकर कई सवाल पूछे हैं. रॉय के परिवार को पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट सौंप दी गई है. अनूप की मां ने कहा कि मुझे शक है कि पोस्टमार्टम सही ढंग से नहीं किया गया, इसलिए अवैध तरीके से तैयार की गई पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट को हमलोग स्वीकार नहीं करेंगे. इसी मामले में उत्तरी दिनाजपुर के एसपी सुमित कुमार ने कहा कि अनूप कुमार को एक चोरी के केस में पूछताछ के लिए थाने लाया गया था. इस केस में चार लोग गिरफ्तार हो चुके हैं. एसपी सुमित कुमार ने मीडिया से कहा, वह (अनूप) अचानक बेहोश होकर गिर पड़ा. हमलोग तुरंत उसे अस्पताल ले गए जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में पता चला है कि उसकी मौत ब्रेन हेमरेज हो हुई है.

अभी हाल में बलिया मोड़ पर एक दुकान के सामने हेमताबाद के बीजेपी विधायक देवेंद्रनाथ रॉय का शव बरामद हुआ था. यह घटना 13 जुलाई की है. बंगाल पुलिस इसे खुदकुशी का मामला बता रही है जबकि बीजेपी इसे हत्या बताकर सीबीआई जांच की मांग कर रही है.  इस बीच बैरकपुर से बीजेपी सांसद अर्जुन सिंह के घर के पास देसी बम फेंके गए. सोशल मीडिया पर एक पोस्ट को लेकर सिंह के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है. 

ADVERTISEMENT