बंगाल में लगातार दूसरे दिन पूर्ण लॉकडाउन के चलते जनजीवन प्रभावित, पुलिस- प्रशासन ने कड़े कदम उठाये


कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए बंगाल सरकार के पूर्व घोषित निर्णय के अनुसार लगातार दूसरे दिन शुक्रवार को राज्यव्यापी पूर्ण लॉकडाउन के कारण कोलकाता सहित पूरे राज्यभर में जनजीवन की रफ्तार थम सी गई है। महानगर सहित अधिकतर जिलों में सुबह से ही सड़कों पर सन्नाटा पसरा है। जरूरी सेवाओं को छोड़कर सभी बाजार, दुकान, निजी व सरकारी कार्यालय, व्यापारिक प्रतिष्ठान, परिवहन सेवा, बैंक आदि सब बंद है।

कोलकाता एयरपोर्ट से भी इस दिन सभी विमानों की आवाजाही रद्द कर दी गई है। वहीं हावड़ा, सियालदह व अन्य स्टेशनों से खुलने वाली स्पेशल ट्रेनों को भी पहले ही रद्द कर दिया गया है। राज्य सरकार की ओर से जारी निर्देश के अनुसार सुबह 6 बजे से लेकर रात्रि 10 बजे तक पूर्ण लॉकडाउन रहेगा और इस दौरान बेवजह घरों से निकलने पर प्रतिबंध है।

इधर, लॉकडाउन को सफल बनाने के लिए पुलिस- प्रशासन ने भी काफी कड़े कदम उठाये हैं और जगह-जगह नाका चेकिंग हो रही है। वाहन लेकर व पैदल सड़कों पर निकलने वालों से पुलिस कड़ाई से पूछताछ कर रही है और जरूरी कारण नहीं बताने पर वाहन जब्त करने के साथ गिरफ्तार कर रही है।

वहीं, पूर्ण लॉकडाउन में अत्यावश्यक सेवाएं जैसें- दवा की दुकानें, स्वास्थ्य, बिजली, पानी आदि को छूट दी गई है। साथ ही चाय बागानों में कामकाज हो सकता है। ऑन साइट रहने वाले श्रमिकों के जरिये फैक्टरियों में भी काम की मंजूरी दी गई है। इससे पहले 5 व 8 अगस्त को पूर्ण लॉकडाउन लागू किया गया था, जो काफी सफल रहा था। 

गौरतलब है कि राज्य सरकार ने 20 जुलाई को राज्य के कुछ इलाकों में कोरोना वायरस के सामुदायिक संक्रमण को देखते हुए हर सप्ताह 2 दिन संपूर्ण लॉकडाउन की घोषणा की थी।

पश्चिम बंगाल में कोविड-19 के 3,197 नए मरीज

पश्चिम बंगाल में बृहस्पतिवार को कोरोना वायरस संक्रमण के रिकॉर्ड 3,197 नए मामले सामने आए हैं। जिसके बाद राज्य में कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 1,29,119 हो गई है। स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि राज्य में बुधवार से अब तक 53 और लोगों की मौत इस खतरनाक वायरस की वजह से हुई है, जिसके बाद मृतकों की संख्या बढ़कर 2,634 हो गई। विभाग के मुताबिक इस अवधि के दौरान इस खतरनाक वायरस के संक्रमण से 3,126 लोग मुक्त हो चुके हैं। स्वस्थ होने की दर 76.51 पहुंच गई है।

ADVERTISEMENT