रेलवे को बड़ा घाटा, 5 महीने में 1.78 करोड़ ट्रेन टिकट रद्द, लौटाने पड़े कमाई से ज्यादा पैसे


इंडियन रेलवे को कोरोना काल में यात्रियों को कैंसिल टिकट का पैसा वापस करने से बड़ा घाटा हुआ है. एक आरटीआई के जवाब में इस बात की जानकारी मिली है. आरटीआई के मुताबिक इंडियन रेलवे ने कोरोना वायरस महामारी के कारण इस साल मार्च से टिकटों को रद्द करना शुरू किया और 1.78 करोड़ से ज्यादा टिकट रद्द किए. इसके कारण रेलवे को 2727 करोड़ रुपये की रकम यात्रियों को वापस करना पड़ा. 

सूचना के अधिकार (RTI) के तहत मिले जवाब के मुताबिक इस दौरान भारतीय रेल ने कुल 1,78,70,644 टिकट रद्द किए और इसके बदले में उसे 2727 करोड़ रुपये लोगों को वापस करने पड़े. बता दें कि इंडियन रेलवे ने कोरोने के संकट को देखते हुए 25 मार्च 2020 से ही पैसेंजर ट्रेनों को रद्द कर दिया था. यह आरटीआई मध्य प्रदेश के चंद्रशेखर गौड़ ने दाखिल की थी, जिसके जवाब में रेलवे ने कहा कि कोविड-19 के कारण बंद ट्रेनों के टिकट रद्द करने के लिए कोई शुल्क नहीं काटा गया.

घट गया 1066 करोड़ का राजस्व

न्यूज एजेंसी पीटीआई के मुताबिक पहली बार रेलवे को टिकट बुकिंग से जितनी आमदनी हुई उससे ज्यादा पैसे वापस करने पड़े. वर्ष 2020-21 की पहली तिमाही में यात्री खंड में 1066 करोड़ रुपये राजस्व घट गया. पिछले साल एक अप्रैल से 11 अगस्त के बीच रेलवे ने 3,660.08 करोड़ रुपये वापस किए थे और समान अवधि में 17,309.1 करोड़ रुपये का राजस्व आया.

ADVERTISEMENT