चीन पर बरसे पोंपिओ, कहा- बीजिंग में सामूहिक गर्भपात व नसबंदी के आदेश से मानवता हुई शर्मसार


चीन की कम्‍युनिस्‍ट पार्टी पर निशाना साधते हुए एक बार फ‍िर अमेरिकी विदेश मंत्री ने कहा कि बीजिंग में सामूहिक गर्भपात और नसबंदी के आदेश ने मानवता को शर्मसार किया है। अमेरिकी विदेश मंत्री ने कहा पश्चिमी चीन में चीनी मुसलमानों को जबरन इसके लिए बाध्‍य किया जा रहा है। उन्‍होंने कहा कि कुछ हफ्ते पहले मैंने चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के बारे में एक रिपोर्ट पश्चिमी चीन में  सामूहिक गर्भपात और नसबंदी के लिए मजबूर करने के बारे में पढ़ा। पोम्पिओ ने कहा यह सब कुछ सकल मानव अधिकारों का सरासर उल्लंघन हैं।

चीन की आक्रमकता की नीति लोकतांत्रिक मुल्‍यों के लिए खतरा

अपनी आयोवा यात्रा के दौरान पोम्पिओ ने कहा कि चीनी कम्युनिस्ट पार्टी हांगकांग में स्वतंत्रता को कुचल रही है। राष्‍ट्रीय सुरक्षा कानून के माध्‍यम से वह हांगकांग में लोकतांत्रिक मूल्‍यों का दमन किया जा रहा है। इतना ही नहीं बीजिंग एक मुक्त ताइवान को लगातार धमकी दे रहा है। उसकी नजर ताइवान पर है। चीन  विश्व संचार नेटवर्क पर हावी होने की कोशिश कर रहा है। उन्‍होंने दुनिया को आगाह करते हुए कहा कि चीन की आक्रमकता की नीति लोकतांत्रिक मुल्‍यों के लिए खतरा बन गया है।   

पांच चीनी नागरिकों और दो चीनी संस्थाओं पर लगाया प्रतिबंध

शुक्रवार को वाशिंगटन ने विदेशी नारकोटिक्स किंगपिन अधिनियम के तहत पांच चीनी विदेशी नागरिकों और दो चीनी संस्थाओं पर प्रतिबंध लगा दिया है। इसके साथ अमेरिका ने हुआवेई सहित चीनी प्रौद्योगिकी कंपनियों के कुछ कर्मचारियों के वीजा पर भी प्रतिबंध लगा दिया है। उन पर यह आरोप है कि वह विश्व स्तर पर मानव अधिकारों के दुरुपयोग में संलग्न लोगों को सहायता सामग्री प्रदान करते हैं।

चीन की दूरसंचार कंपनियों पर कसी नकेल 

पोम्पिओ ने दुनियाभर की दूरसंचार कंपनियों को आगाह करते हुए कहा कि हुआवेई के साथ व्‍यापार करने का अर्थ है कि आप मानवाधिकार उल्‍लंघन के साथ व्‍यापार कर रहे हैं। उन्‍होंने उससे जुड़े मुल्‍कों को सचेत करते हुए कहा कि हुआवेई चीनी सैन्‍य निगरानी के तहत है। यह राजनीतिक क्रियाकलपों पर प्रतिबंध लगाता है। उन्‍होंने कहा इसके जरिए झिंजियांग के नजरबंदी शिविरों की निगरानी की जाती है। बता दें कि अमेरिकी कार्रवाई के एक दिन बाद ब्रिटेन ने इस साल के अंत से 5G नेटवर्क के लिए हुआवेई उत्पादित उपकरण खरीदने से ब्रिटिश कंपनियों पर प्रतिबंध लगाने के अपने फैसले की घोषणा की। 

ADVERTISEMENT