बिहार के डीजीपी ने जनप्रतिनिधियों से की बात, कहा- पंचायत स्‍तर पर बनाएं वाॅट्सऐप ग्रुप


बिहार के पुलिस महानिदेशक ( डीजीपी) गुप्तेश्वर पांडेय ने पंचायत प्रति‍निधियों को सोशल मीडिया से जुड़ने को कहा है। खासकर पंचायत प्रतिनिधि अपना वॉट्सएेप ग्रुप बना लें और बारीक से बारीक घटनाओं पर नजर रखें। उन्‍होंने मुखिया से भी कहा कि जनहित में काम करें और समाज के विकास में अपना याेगदान दें। साथ ही उन्‍होंने थानेदार और चौकीदार को भी र्इमानदारी से काम करने की नसीहत दी।

दरअसल, बिहार के पुलिस कप्‍तान डीजीपी गुप्‍तेश्‍वर पांडेय शनिवार को सीतामढ़ी में थे। उन्‍होंने पंचायत प्रतिनिधियों से वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग के माध्‍यम से बात की। कहा कि नेता, थानेदार और चौकीदार... ये सभी सरकार के प्रमुख अंग हैं। ये ईमानदारी से मिलकर काम करें तो समाज से अपराध खत्म हो जाएगा। जनप्रतिनिधियों से कहा कि स्थानीय अपराधियों और शराब धंधेबाजों के बारे में पुलिस हेल्पलाइन नंबर, वाॅट्सएेप पर सूचना दें। इसे गुप्त रखकर कार्रवाई होगी।


थानेदारों, पुलिस इंस्पेक्टर, एसडीपीओ से उन्होंने कहा कि जनप्रतिनिधियों और आम जनता का वे उचित सम्मान करें। उनकी समस्याओं को गंभीरता से सुनेें और तुरंत यथोचित कार्रवाई करें। डीजीपी ने सीतामढ़ी और शिवहर समाहरणालय में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से किए गए जनसंवाद में शराबबंदी, अपराध नियंत्रण और सांप्रदायिक सौहार्द विषय पर खुलकर बातें की तथा इस दौरान मिले सुझावों पर विचार करने का आश्वासन दिया। मौके पर आइजी तिरहुत रेंज गणेश कुमार और एसपी सीतामढ़ी अनिल कुमार भी मौजूद थे।

उन्‍होंने सभी थानाध्यक्षों, मुखियों, प्रमुखों, जिला पार्षदों और वार्ड सदस्यों को संबोधित करते हुए नशामुक्ति, विधि-व्यवस्था, सांप्रदायिक सद्भाव रखने में पुलिस को सहयोग करने की अपील की। सभी मुखिया से कहा कि अपनी पंचायत के 100 प्रमुख लोगों का एक ग्रुप बनाएं। जो प्रशासन की मदद के लिए तत्पर रहे। उनका वाॅट्सऐप ग्रुप भी बनाएं। कहा कि अपराधी भी इसी समाज के हैं, लेकिन अपराधी का कोई जाति-धर्म नहीं होता है। गांव-समाज में उसका सहयोग करने पर वह जुल्म करता है, इसलिए उसका हमेशा बहिष्कार करें।


ADVERTISEMENT