सीमा पर फायरिंग के दौरान हिरासत में लिए भारतीय नागरिक को नेपाल ने छोड़ा


नेपाल ने उस भारतीय नागरिक को छोड़ दिया है, जिसे उसने शुक्रवार को भारत-नेपाल सीमा पर फायरिंग की घटना के दौरान हिरासत में ले लिया था. भारतीय नागरिक राम लगन राय को फायरिंग की घटना के बाद शुक्रवार सुबह नेपाल पुलिस ने पकड़ लिया था. राम लगन राय को शनिवार तड़के रिहा कर दिया गया.

असल में, भारत-नेपाल के बीच जारी तनाव के दौरान शुक्रवार को सीमा पर फायरिंग हुई थी, जिसमें एक शख्स की मौत हो गई थी, जबकि चार लोग घायल हो गए थे. इस घटना पर बिहार के सीतामढ़ी के पुलिस अधीक्षक ने अपनी रिपोर्ट सौंप दी है. रिपोर्ट के मुताबिक, नेपाल के सुरक्षा बलों ने लगन राय नाम के व्यक्ति को हिरासत में लिया था.

ये घटना बिहार में भारत-नेपाल सीमा के पास सीतामढ़ी के सोनबरसा थाना क्षेत्र की पिपरा परसाइन पंचायत में लालबन्दी स्थित जानकी नगर बॉर्डर की है.

एसएसबी के महानिदेशक के राजेश चंद्र ने बताया कि यह घटना शुक्रवार सुबह करीब 8.40 बजे की है. एक परिवार नेपाल जा रहा था जिन्हें नेपाली सुरक्षा बलों ने बॉर्डर पर रोक दिया और वापस लौटने को कहा. इस बात को लेकर विवाद हो गया. इसी दौरान नेपाली सुरक्षाबलों ने फायरिंग कर दी.

फायरिंग की ये घटना ऐसे समय हुई जब दोनों देशों के बीच तनाव चल रहा है. पिछले कुछ समय से भारत और नेपाल के बीच सीमा विवाद गहराया हुआ है. ये विवाद कालापानी और लिपुलेख को लेकर है. नवंबर 2019 में, भारत के गृह मंत्रालय द्वारा जारी किए गए एक नए नक्शे में कालापानी क्षेत्र को शामिल किया गया था, जिस पर नेपाल अपना दावा करता रहा है. भारत के इलाके को भी नेपाल अपना बता रहा है.

ADVERTISEMENT