बजाज ऑटो की फैक्टरी में 140 स्टाफ कोरोना की चपेट में, 2 की मौत


दोपहिया वाहन बनाने वाली देश की टॉप कंपनियों में शुमार बजाज ऑटो के वालुज फैक्टरी में 140 स्टाफ कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. इस फैक्ट्री में 8100 से ज्यादा वर्कर काम करते हैं. दो कर्मचारी जिन्हें हाइपर टेंशन और डायबिटीज की शिकायत थी, उनकी कोरोना के चपेट में आने से मौत हो गई है.

कंपनी ने कोरोना की वजह से इस फैक्टरी में फिलहाल बंदी से इनकार किया है. इस फैक्ट्री में खासकर निर्यात के लिए उच्च क्वॉलिटी की बाइक बनाई जाती हैं. इस फैक्टरी में लॉकडाउन की वजह से एक महीने की लंबी बंदी के बाद 24 अप्रैल से उत्पादन शुरू हुआ था.

फैक्टरी में चालू है उत्पादन

कंपनी के मुख्य मानव संसाधन अधिकारी रवि कयार्न रामास्वामी ने कहा कि हमें ऐसी जानकारी मिली है कि ऐसी खबरें चल रही हैं कि महाराष्ट्र के वालुज में स्थित हमारी फैक्टरी को कुछ सदस्यों को कोरोना होने से बंद करना पड़ा है. उन्होंने कहा कि हम बताना चाहते हैं कि वालुज में निर्माण यूनिट में सामान्य तौर पर काम हो रहा है.

शटडाउन का कर्मचारियों पर बुरा असर

उन्होंने कहा कि पूरे देश की तरह बजाज ऑटो भी कोरोना वायरस के साथ जीना सीख रहा है. हम कोशिश करेंगे कि हमारा बिजनेस ऑपरेशन सामान्य तौर पर चलता रहे, हम जरूरी एहतियात बरत रहे हैं. दूसरा विकल्प यह है कि फैक्टरी को नो वर्क नो पे के नियमों के साथ बंद करना. लेकिन इस पॉलिसी की वजह से हमारे कर्मचारियों पर बेहद बुरा असर पड़ सकता है और सप्लाई चेन पर भी असर पड़ने की आशंका है.

6 जून को आया पहला कोरोना केस

कंपनी ने कहा कि 24 अप्रैल से 6 जून तक फैक्ट्री में कोरोना का केस नहीं मिला था. कंपनी में पहली कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट छह जून को आई थी.

प्राथमिक रिपोर्ट में कहा गया है कि कम से कम 79 लोग कोरोना पॉजिटिव थे. शुक्रवार शाम को इस बारे में सही रिपोर्ट सामने आई और कोरोना पॉजिटिव की संख्या 140 के आसपास रिकॉर्ड की गई.

2 प्रतिशत लोग कोरोना की चपेट में

कंपनी ने एक बयान में कहा है कि वालूज प्लांट में कुल मिलाकर 8100 से ज्यादा लोग काम करते हैं. मौजूदा समय में कंपनी में संक्रमित 140 कर्मचारियों की संख्या कुल क्षमता का 2 प्रतिशत से भी कम है.

कंपनी ने कहा कि फैक्टरी में कोरोना पॉजिटिव स्टाफ मिलने की एक वजह यह भी हो सकती है कि देश भर में क्रमवार तरीके से लॉकडाउन में छूट दी जा रही है. इसकी वजह से देश में भी कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ी है. वालूज में हर साल 500000 बाइक का उत्पादन होता है.

कंपनी ने कहा कि फैक्टरी परिसर में स्वास्थ्य मंत्रालय के मानकों और दिशा-निर्देशों का सख्ती से पालन किया जाता है. बजाज ऑटो के मुताबिक फैक्ट्री परिसर में कोरोना प्रोटोकॉल की समीक्षा सरकारी अधिकारी से की जाती है, फैक्ट्री के इन हाउस स्टाफ इसका सख्ती से पालन करवाते हैं.

राजीव बजाज ने की थी लॉकडाउन की आलोचना

बता दें कि बजाज ऑटो के मैनेजिंग डायरेक्टर राजीव बजाज ने देश में 25 मार्च से 31 मई तक चले लॉकडाउन की आलोचना की थी और कहा था कि सरकार को ऐसा उपाय करना चाहिए था ताकि कम या शून्य कोरोना मरीज वाले क्षेत्रों में फैक्ट्रियां काम करते रहे.

ADVERTISEMENT