जुलाई में भारत को मिलेंगी 4 राफेल विमानें, अंबाला एयरबेस पर होंगी तैनात


पाकिस्तान और चीन से सरहद पर तनाव के बीच भारत के लिए अच्छी खबर है. जुलाई के आखिरी हफ्ते में भारत को चार राफेल विमानें मिलेंगी. इन विमानों को भारतीय वायुसेना के अंबाला एयरबेस पर तैनात किया जाएगा. सरकार के सूत्रों ने इंडिया टुडे को बताया कि कोरोना के कारण कुछ की हफ्तों की देरी हुई है, लेकिन अब विमान जुलाई में आएंगी.

इंडिया टुडे को सरकार के सूत्रों ने कहा कि राफेल के आने से हवाई युद्ध क्षमताओं में देश की ताकत बढ़ेगी. राफेल विमान दुश्मन के विमानों को 150 किलोमीटर की अधिक दूरी से मार सकता है. चीन और पाकिस्तान दोनों ही इतनी दूरी से मिसाइल लॉन्च नहीं कर सकते हैं.

पहले चार विमान अंबाला वायुसेना अड्डे पर तैनात होंगे. यही पर राफेल स्क्वाड्रन बनाया गया है. भारत ने 2016 में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की पहल पर 36 राफेल विमानों के लिए समझौते पर हस्ताक्षर किया था, जो दक्षिण एशिया में भारतीय वायु सेना की ताकत को बढ़ाने में मदद करेगी.

गौरतलब है कि इन दिनों पाकिस्तान और चीन सीमा पर तनाव का माहौल है. हंदवाड़ा एनकाउंटर के बाद पाकिस्तानी सीमा में लड़ाकू विमानों को उड़ते हुए देखा गया था. इसके बाद भारतीय सेना अलर्ट मोड पर आ गई थी और पाकिस्तान की हर हरकत पर बारीकी से नजर रखी जा रही है.

इसके अलावा लद्दाख और सिक्किम में भारत और चीन के जवानों के बीच झड़प हुई थी. इसके बाद लद्दाख में एलएसी पर चीनी हेलिकॉप्टरों को उड़ते हुए देखा गया था. इसके बाद वायुसेना ने लद्दाख सेक्टर में लड़ाकू विमानों को तैनात किया था, जो चीनी घुसपैठ का जवाब देंगे.


ADVERTISEMENT