ट्रेन सेवा शुरू करने के विरोध में बिहार, बंगाल, तेलंगाना और तमिलनाडु के CM


15 शहरों के लिए आज से 15 स्पेशल एसी ट्रेन शुरू हो रही हैं, लेकिन कई राज्यों ने रेल सेवा बहाल करने के फैसले पर चिंता जाहिर की है. बिहार , बंगाल, तेलंगाना और तमिलनाडु के मुख्यमंत्रियों ने कहा कि इससे कोरोना का संक्रमण और तेजी से फैलने का खतरा है, लेकिन मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रेल चलाने के फैसले का समर्थन किया.

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रेल खोले जाने को बैड आइडिया करार दिया. रेल चलाने का विरोध करने वालों में नीतीश अकेले नहीं हैं. तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने पैसेंजर ट्रेनें चलाने का विरोध किया. उन्होंने इसके पीछे वजह भी बताई. केसीआर ने कहा कि दिल्ली, मुंबई, चेन्नई और हैदराबाद जैसे मेट्रो शहरों में कोरोना के मामले ज्यादा हैं, इसलिए इन जगहों से आने-जाने वाले मुसाफिर दूसरी जगहों में भी संक्रमण तेजी से फैला सकते हैं.

तमिलनाडु ने भी चेन्नई में 31 मई तक रेल सेवा बंद रखने की अपील की है. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी रेल चलाने पर चिंता जाहिर की.उन्होंने कहा कि केंद्र को संघीय ढांचे का सम्मान करते हुए राज्यों को विश्वास में लेकर योजनाएं शुरू करना चाहिए. रेल चलाने से कोरोना का संक्रमण और फैलने का खतरा है.

वहीं, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ममता बनर्जी को करारा जवाब देते हुए कहा कि पीएम मोदी ने टीम इंडिया की स्प्रिट बरकरार रखी है. उन्होंने स्पेशल श्रमिक ट्रेनें चलाने की तारीफ करते हुए कहा कि इससे सभी राज्यों के लाखों श्रमिकों को लाभ मिला है.

इस बीच रेलवे सफर के बाद अब हवाई सफर को खोलने की भी तैयारी हो चुकी है. कल यानी सोमवार को नागरिक उड्डयन मंत्रालय की एक टीम ने दिल्ली स्थित आईजीआई एयरपोर्ट का दौरा किया था और तैयारियों का जायजा लिया था. माना जा रहा है कि 17 मई के बाद से कुछ शहरों के बीच उड़ानें शुरू की जा सकती हैं.

22 मार्च को लॉकडाउन शुरू होने के साथ ही दिल्ली मेट्रो भी बंद है, लेकिन डीएमआरसी के एक ट्वीट से संकेत मिलता है कि मेट्रो जल्द शुरू हो सकती है. डीएमआरसी ने ट्वीट कर जानकारी दी है कि मेट्रो स्टेशनों पर विशेष प्रशिक्षित हाउस कीपिंग स्टाफ को रखा गया है, जो प्लेटफॉर्म , लिफ्ट, एस्कलेटर को साफ करेंगे.

ADVERTISEMENT