रोजाना 15000 लोगों को भोजन करा रहा जीतो,लॉकडाउन के प्रथम दिन से चल रहा 'फूड फॉर एवरीवन' प्रोजेक्ट


युवा शक्ति टीम 
-
कोलकाता : कोरोना वायरस जिसने भारत ही नहीं पूरे विश्व की गति को स्थिर कर दिया है ऐसे मुश्किल समय में जब सब कुछ ठहर सा गया है। लोग अपने घरों में, सीमित दायरे में रहने के लिए मजबूर हैं। अपनी दैनिक जरूरतों को पूरा करने में कठिन परिस्थितियों का सामना कर रहे हैं। ऐसे मुश्किल समय में जैन इंटरनेशनल ट्रेड ऑर्गेनाइजेशन (जीतो) कोलकाता चैप्टर अपने सेवा कार्य के पंख को पूरे शहर में पसार रहा है। समाज को इस समय एकता और सतर्कता का जो परिचय प्रदान करना चाहिए, जहां कोई भी व्यक्ति अपने आप को असहाय, बेबस और लाचार महसूस ना करें और कम से कम एक समय का भोजन ग्रहण कर  घर में सुरक्षित रह सके, इसी उद्देश्य के साथ जीतो ने 'फूड फॉर एवरीवन' नाम से प्रोजेक्ट लॉकडाउन के प्रथम दिन से प्रारंभ किया। इसके तहत इस महामारी में पिछले 22 दिनों से गरीब असहाय लोगों को भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है।


300 व्यक्तियों से प्रारंभ यह सेवा कार्य आज रोजाना लगभग 15000 व्यक्तियों का पेट भर रहा है। फूड फॉर एवरीवन नाम  से यह प्रोजेक्ट प्रकाश नाहटा के नेतृत्व में लॉकडाउन के प्रथम दिन से निरंतर गतिमान है। अभी तक 185000 व्यक्तियों तक भोजन पहुंचाने का कार्य कोलकाता पुलिस के सहयोग से  किया जा चुका है। कठिन परिस्थितियों के बावजूद फूड फॉर एवरीवन टीम निरंतर इस बात का ध्यान रख रही है कि सोशल  डिस्टें सिंग और पूरे हाइजीनिक तरीके से भोजन तैयार किया जाए और गरीबों में बांटा जाए। इस प्रोजेक्ट में कोलकाता पुलिस का सहयोग भी अतुलनीय है। 26 थानों द्वारा रोजाना बना हुआ भोजन गरीबों में बांटा जा रहा है। 


जीतो ईस्ट जोन के चेयरमैन  सर्वेश जैन एवं  चीफ सेक्रेटरी अमित कोठारी और जीतो कोलकाता चैप्टर के चेयरमैन  नरेन्द्र श्यामसुखा ने यह निर्णय किया है कि लाकडाउन के दूसरे चरण में भी यह सेवा गतिमान रहे और जीतो की कोशिश है कि कोलकाता नगर में कोई भी भूखा ना रहे। इस बड़े सेवा कार्य में जीतो के साथ जीतो लेडीस विंग और जीतो यूथ विंग भी निरंतर सहयोग कर रही है, जिसका नेतृत्व सुनीता मेहता और अनंत बागरेचा कर रहे हैं।

इस कार्य में प्रकाश नाहटा का सहयोग बसंत सेठिया, अर्जुन सिंह मेहता, पंकज मालू, राजीव जैन, सुमित कोठारी, रोहित सुराणा, राजेश भुतोडिया, ऋषभ नाहटा, मेहुल मेघानी, प्रकाश सेठिया,श्री शान्ती लाल जैन, पंकज कांकरिया, प्रियांक सिंघी, बाबूलाल बच्छावत और कई अन्य साथी दे रहे हैं।